नई दिल्लीः जानेमाने उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने एक मोची द्वारा अपनी दुकान की मार्केटिंग से प्रभावित होकर ‘जख्मी जूतों का हस्पताल’ नामक स्टार्टअप में निवेश करने की इच्छा जताई है. दरअसल, मोची ने अपनी दुकान का नाम ही ‘जख्मी जूतों का हस्पताल’ का रखा है. उसने पुराने और खराब जूते-चप्पलों की मरम्मत करने के लिए बैठने वाली जगह पर एक बैनर लगा रखा है जिसपर लिखा है कि ‘जख्मी जूतों का हस्पताल’.

इसके साथ ही उसने बैनर पर अपना नाम डॉ. नरसीराम लिखा है. उसने बैनर पर लिखा हैः ओपीडी का समय- सुबह 9 बजे 1 बजे तक, लंच का समय 1 से 2 बजे तक और शाम में दो से 6 बजे तक हस्पताल खुला रहेगा. इसमें आगे लिखा है कि हमारे यहां सभी तरह के जूते का इलाज जर्मन तकनीक से किया जाता है.

आईआईएम में पढ़ाए यह व्यक्ति
महिंद्रा ने इस मोची की मार्केटिंग के इस तरीके की खूब प्रशंसा की. उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि इस आदमी को इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट में मार्केटिंग पढ़ाना चाहिए. महिंद्रा को व्हाट्सऐप पर किसी ने यह तस्वीर भेजी थी. इसके बाद उन्होंने ट्वीट किया कि उन्हें नहीं पता कि यह फोटो कहा से और कब आया. यह फोटो कितनी पुरानी है. उन्होंने आगे लिखा कि अगर कोई उस व्यक्ति को खोज निकालता है और वह व्यक्ति अब भी यह काम करता है तो वह उसके स्टार्टअप में एक छोटा सा निवेश करना चाहते हैं.

महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिद्रा माइक्रो ब्लागिंग साइट ट्विटर पर एक्टिव हैं. हाल ही में फेसबुक से हुए डाटा लीक के बाद भी उन्होंने एक भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए प्रस्ताव मांगा था. उन्होंने 28 मार्च को ट्वीट किया था कि उनके इस प्रस्ताव पर शानदार रेसपॉन्स मिली थी. वह इन रेसपॉन्स से बेहद खुश हैं.