मुंबई| वर्चुअल मुद्रा बिटकॉइन की कीमत बुधवार को पहली बार 14,000 डॉलर से ऊपर की रिकार्ड ऊंचाई पर पहुंच गई. कुछ दिनों पहले सीएनएन की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि दुनिया भर के शेयर बाजारों में इस साल गिरावट रही है और उनमें निवेश करनेवालों का लाभ बिटकॉइन की तुलना में तुच्छ है. 2017 की शुरुआत से ही लगातार बिटकॉइन की कीमत में इजाफा हो रहा है.

साल की शुरुआत में 1,000 डॉलर के स्तर पर कारोबार कर रहे बिटकॉइन ने बीते सप्ताह ही 10,000 डॉलर के लेवल को पार किया था. बिटकॉइन के नई ऊंचाई पर पहुंचने से इसको लेकर निवेशकों का आकर्षण बढ़ रहा है.

Bitcoin is promoting Black Money, all you need to know about this digital currency | स्पेशल रिपोर्ट: Bitcoin बना ब्लैक मनी का नया अड्डा, जानिए कैसे होता है लेन-देन

Bitcoin is promoting Black Money, all you need to know about this digital currency | स्पेशल रिपोर्ट: Bitcoin बना ब्लैक मनी का नया अड्डा, जानिए कैसे होता है लेन-देन

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही आरबीआई ने जनता को बिटकॉइन के जोखिमों के प्रति चेताया था. केंद्रीय बैंक ने इस बारे में पूर्व में जारी चेतावनी का उल्लेख करते हुए कहा कि बिटकॉइन के मूल्यांकन में तेजी और इनिशियल कॉइन पेशकशों (आईसीओ) में तेज वृद्धि के मद्देनजर हम अपनी चिंता को फिर दोहराते हैं.

क्या है बिटकॉइन?
इसे वर्चुअल करंसी भी कहते हैं. इसे मंहगी करेंसी भी कहा जाता है. कम्प्यूटर नेटवर्कों के जरिए इस मुद्रा से बिना किसी मध्यस्थता के लेन-देन किया जा सकता है. बिटकॉइन का फायदा यह रहता है कि इसमें लेन-देन गुमनाम रहता है.

बिटकॉइन का निर्माण जटिल कम्‍प्‍यूटर एल्गोरिथम्स और कम्‍प्‍यूटर पावर से निर्माण किया जाता है जिसे माइनिंग कहते हैं. इस करंसी को क्रिप्टोकरेंसी भी कहा जाता हैं जिस तरह रुपए, डॉलर और यूरो खरीदे जाते हैं, उसी तरह बिटकॉइन की भी खरीद होती है. बिटकॉइन का किसी मौद्रिक प्राधिकरण द्वारा नियमन नहीं होता है