नई दिल्ली: भारत में कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों के लिए खुशखबरी है. इस साल कंपनियां औसतन लगभग 10 फीसदी तक इंक्रीमेंट दे सकती है. मौजूदा वित्‍तीय वर्ष में औसतन 9.6 प्रतिशत की वेतनवृद्धि होने का अनुमान है. सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में कंपनियों के कर्मचारियों को चालू वित्त वर्ष के दौरान औसतन 9.6 प्रतिशत की वेतनवृद्धि मिलने का अनुमान है. इसमें प्रमुख प्रतिभाशाली कर्मचारियों को 14.7 प्रतिशत तक वेतनवृद्धि का लाभ मिल सकता है.

मुख्‍य बातें
– उद्योगों में औसतन 9.6 प्रतिशत वृद्धि रहने का अनुमान
– 2018-19 में18 विभिन्न क्षेत्रों के 270 संगठनों से लिए गए आंकड़ों के आधार पर सर्वेक्षण
– वित्त वर्ष 2017- 18 में औसत अनुमानित वृद्धि 9.7 प्रतिशत थी
– वित्त वर्ष 2017- 18 में वास्तविक वृद्धि 9.4 प्रतिशत रही

20 फीसदी को आकर्षक ऑफर
रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि कम से कम 19.9 प्रतिशत को इसमें काफी आकर्षक लाभ की पेशकश की गई.

बेहतर कर्मचारियों की पहचान
रिपोर्ट के अनुसार 75 प्रतिशत के करीब संगठनों ने बेहतर संभावनाओं वाले कर्मचारियों की पहचान की है और वह उन्हें 14.7 प्रतिशत तक की औसत वृद्धि दे सकते हैं.

इस साल अनुमान ज्‍यादा
इस साल परिवर्तनशील वेतन अनुमान 2017- 18 के 15.4 प्रतिशत से बढ़कर 2018-19 में 15.7 प्रतिशत हो गया.

270 संगठनों के आंकड़ों पर सर्वे
केपीएमजी की पीपुल एण्ड चेंज एडवाइजरी सर्विस की भागीदार और प्रमुख विशाली डोंगरी ने कहा, ”वित्त वर्ष 2018- 19 के दौरान वेतन वृद्धि समूचे उद्योग के स्तर पर एक अंकों में औसतन 9.6 प्रतिशत रहने का अनुमान है. यह अनुमान हमारे सालाना पारितोषिक रुझान सर्वेक्षण 2018-19 में प्राप्त 18 विभिन्न क्षेत्रों के 270 संगठनों से लिए गए आंकड़ों के आधार पर लगाया गया है.” वित्त वर्ष 2017- 18 में औसत अनुमानित वृद्धि 9.7 प्रतिशत थी, जबकि वास्तविक वृद्धि 9.4 प्रतिशत रही. (इनपुट एजेंसी)