नई दिल्ली: एशियाई विकास बैंक का अनुमान है कि एक अप्रैल से शुरू हुए मौजूदा वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक विकास दर सुधर कर 7.3 जबकि अगले वित्त वर्ष 2019-2020 में 7.6 प्रतिशत रहेगी. बैंक का अनुमान है कि जीएसटी के कारण उत्पादन में वृर्द्धि और बैंकिंग के क्षेत्र में सुधार के कारण निवेश से आर्थिक विकास दर को गति मिलेगी.

वर्ष 2016 में हुई नोटबंदी के प्रभावों, वर्ष 2017 में जीएसटी लागू होने के बाद व्यापारियों को उसके साथ तालमेल बनाने में लगे समय और कृषि के क्षेत्र में मंदी रहने के कारण पिछले वित्त वर्ष में आर्थिक विकास दर गिरकर 6.6 प्रतिशत पर रह गयी थी.

एडीबी ने वित्त वर्ष 2018-2019 में भारत की आर्थिक विकास दर 7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है. गौरतलब है कि रेटिंग एजेंसी फिच का भी यही अनुमान है. हालांकि भारतीय रिजर्व बैंक के अनुसार मौजूदा वित्त वर्ष में आर्थिक विकास की दर 7.4 प्रतिशत रहने की संभावना है. (इनपुट-भाषा)