नई दिल्ली:  पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी योजना जन-धन खातों में जमा पैसों का नया रिकॉर्ड बन चुका है. एक आरटीआई के जबाव में सरकार की तरफ से कहा गया है कि जनधन खातों में जमा पैसों का आंकड़ा 64,564 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है जो अबतक का रिकॉर्ड है, इन पैसों में से 300 करोड़ रुपये नोटबंदी के पहले 7 महीने मे जमा हुए हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रमुख योजनाओं में एक समझी जाने वाली प्रधानमंत्री जन-धन योजना वित्तीय समावेशन की प्रमुख पहल है. इसका उद्देश्य अब तक बैंकिंग सेवाओं से वंचित लोगों को औपचारिक बैंकिंग प्रणाली के दायरे में लाना है.

इस योजना के तहत शून्य शेष सुविधा वाले खाते खोले जाते हैं. एक आरटीआई आवेदन पर वित्त मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। इसके अनुसार 14 जून, 2017 तक 28.9 करोड़ जनधन खाते थे. इनमें से 23.27 करोड़ खाते सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में जबकि 4.7 करोड़ क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों में और 92.7 लाख निजी बैंकों में हैं.

मंत्रालय का कहना है कि इन खातों में कुल 64,564 करोड़ रुपये जमा है. इनमें से 50,800 करोड़ रुपये सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के जनधन खातों में हैं जबकि 11,683.42 करोड़ रुपये क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों और 2,080.62 करोड़ रुपये निजी बैंकों में हैं.