नई दिल्ली. पंजाब नेशनल बैंक में 11 हजार करोड़ रुपए से ज्‍यादा के घोटाले का आरोपी नीरव मोदी एफआईआर दर्ज होने से पहले ही देश से फरार हो गया. शराब कारोबारी विजय माल्या की तरह किसी घोटाले के आरोपी के इस तरह फरार हो जाने को लेकर राजनीति गरमा गई है. तीन जनवरी को पीएनबी प्रबंधन को मामले की जानकारी मिली तो उसने कार्रवाई शुरू की लेकिन इससे दो दिन पहले की नीरव मोदी को भनक लग गई और वह विदेश फरार हो गया. इसके बाद जब तक इस पूरे मामले में सरकार हरकत में आती, उससे पहले ही 6 जनवरी को उसकी पत्नी देश से भाग गई. वह अमेरिकी नागरिक है. बेल्जियम का नागरिक और नीरव मोदी का भाई निशल मोदी चार जनवरी को देश से भाग गया.  तब तक सरकारी पूरा सरकारी तंत्र हाथ पर हाथ रखकर बैठ हुआ था. घटना के उजागर होने के करीब एक माह बाद 31 जनवरी को सीबीआई ने मामले में लुक आउट नोटिस जारी किया.

 

नीरव मोदी से पहले इन शातिर कारोबारियों ने देश के वित्तीय तंत्र को लगाया था चूना

नीरव मोदी से पहले इन शातिर कारोबारियों ने देश के वित्तीय तंत्र को लगाया था चूना

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने टि्वटर अकाउंट पर इससे संबंधित सवाल उठाते हुए कहा है कि क्या ललित मोदी और विजय माल्या की तरह नीरव मोदी को भी एफआईआर से पहले सूचना दे दी गई थी. इस बारे में कांग्रेस प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी. बता दें कि आरोपी नीरव मोदी के घर और दफ्तरों पर प्रवर्तन निदेशालय छापेमारी कर रही है.

इससे पहले निदेशालय ने मोदी और अन्‍य आरोपियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था. पंजाब नेशनल बैंक में 11 हजार करोड़ रुपए से ज्‍यादा के घोटाले में आरोपी नीरव मोदी के घर और दफ्तरों पर प्रवर्तन निदेशालय छापेमारी कर रही है. इससे पहले निदेशालय ने मोदी और अन्‍य आरोपियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था. 

जानिए कौन है अरबों रुपए के पीएनबी घोटाले का मुख्‍य आरोपी नीरव मोदी

जानिए कौन है अरबों रुपए के पीएनबी घोटाले का मुख्‍य आरोपी नीरव मोदी

हालांकि, खबरों के मुताबिक इस मामले में एफआईआर दर्ज होने से पहले नीरव मोदी भारत छोड़कर जा चुका था. अरबपति हीरा कारोबारी नीरव फोर्ब्‍स की भारतीय अरबपतियों की 2017 की सूची में 57वें नंबर पर है. वह नीरव मोदी डायमंड ज्‍वेलरी रिटेल स्‍टोर्स का संस्‍थापक है.

इसके अलावा फायरस्‍टार इंटरनेशनल का चेयरमैन है जिसके दुनिया के प्रमुख शहरों में स्‍टोर हैं. 1.73 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ वह दुनिया के अरबपतियों की सूची में 1234वें नंबर पर है.