नई दिल्लीः शहरों में भागदौड़ भरी जीवनशैली के कारण लोगों को स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं सताने लगी हैं. ऐसे में काफी लोग इन चिंताओं को दूर करने के लिए मेडिक्लेम पॉलिसी लेते हैं. कई कंपनियां भी अपने कर्मचारियों को कॉरपोरेट मेडिक्लेम पॉलिसी देती है. ऐसे में काफी लोगों के पास कॉरपोरेट के साथ निजी मेडिक्लेम पॉलिसी भी होती है. अगर आपके पास भी कॉरपोरेट और निजी मेडिक्लेम पॉलिसी है तो आप इन दोनों का एक साथ इस्तेमाल कर सकते हैं. दरअसल, दोनों पॉलिसी के लिए आप प्रीमियम का भुगतान करते हैं और यह आपका हक है कि आप जरूरत पड़ने पर उनका लाभ लें.

इस तरह करें इस्तेमाल
मान लीजिए कि आपको अपनी बीमारी के इलाज में 6 लाख रुपये का खर्च आने वाला है. आपके पास कंपनी या नियोक्ता द्वारा दी गई कॉरपोरेट मेडिक्लेम पॉलिसी 4 लाख रुपये की है. वहीं आपके पास 4 लाख रुपये की निजी मेडिक्लेम पॉलिसी भी है. ऐसे में 6 लाख रुपये के भुगतान के लिए आपको दोनों पॉलिसी का इस्तेमाल करना होगा. इलाज करने वाला अस्पताल कैशलेस स्वीकृति के लिए किसी एक बीमा कंपनी से संपर्क करेगा. बीमा की निर्धारित रकम के हिसाब से बीमा कंपनी इसकी स्वीकृति दे देगी लेकिन बाकी रकम आपको अपनी जेब से भरना होगा. अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद बीमा कंपनी अस्पताल को एक भुगतान पत्र भेजेगी.

आपको दूसरी बीमा कंपनी से भुगतान लेने के लिए इस निपटारे पत्र की जरूरत होगी. सामान्य स्थिति में इसी निपटारे पत्र के आधार पर आप अपनी जेब से भरी गई रकम का दावा दूसरी बीमा कंपनी से कर सकते हैं. इसी निपटारे पत्र के आधार ही दूसरी बीमा कंपनी आपको आपकी जेब से खर्च हुई रकम का भुगतान भी कर देगी. इतना ही नहीं अगर आपके पास मौजूद दोनों पॉलिसी एक ही बीमा कंपनी की है तो इसमें आपका काम और आसान हो जाएगा. आप दोनों पॉलिसी से कैशलेस भुगतान करवा सकते हैं.

निजी और कॉरपोरेट दोनों पॉलिसी है जरूरी
बीमा क्षेत्र के जानकार कंपनी या नियोक्ता द्वारा दी गई कॉरपोरेट मेडिक्लेम पॉलिसी के अलावे आपको निजी मेडिक्लेम पॉलिसी लेने की भी सलाह देते हैं. इसके कई फायदे हैं. अगर आप नौकरी बदलते हैं तो हो सकता है कि नई कंपनी आपको कॉरपोरेट मेडिक्लेम की सुविधा न दे या दे भी तो राशि कम हो. ऐसी स्थिति में दूसरी निजी मेडिक्लेम पॉलिसी आपको पर्याप्त कवर देगी. इसके साथ ही अच्छी बात यह है कि बीमा कानून के मुताबिक अगर एक पॉलिसी की राशि किसी बीमारी के इलाज खर्च के लिए पर्याप्त नहीं है तो दूसरी पॉलिसी से इसका भुगतान कर सकते हैं.