नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कैब शेयरिंग को एक ‘अच्छा विचार’ करार दिया है. उन्होंने कहा कि इस बारे में सुझाव आमंत्रित किए कि महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुये इसे कैसे अनुमति दी जाए. दिल्ली सरकार शहर टैक्सी योजना 2017 को मजबूत करने जा रही है और केजरीवाल ने वर्तमान में ऐप आधारित कैब एग्रीगेटर्स द्वारा प्रदान की जा रही शेयरिंग कैब सेवा का समर्थन किया है. 

Defamation case on arvind kejriwal | अरविंद केजरीवाल पर ₹ 1 का मानहानि केस

Defamation case on arvind kejriwal | अरविंद केजरीवाल पर ₹ 1 का मानहानि केस

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘मैं सहमत हूं कि शेयरिंग कैब एक अच्छा विचार है. सरकार में इस पर चर्चा हो रही है. हमारी चिंता महिलाओं की सुरक्षा है. अजनबियों के साथ सवारी साझा करना महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं हो सकता है.’ उन्होंने सवारी साझा करने की अनुमति दिए जाने और महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने को लेकर सुझाव भी आमंत्रित किये हैं. सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत टैक्सी सवारी साझा करने पर प्रतिबंध लगाने के खिलाफ हैं और इस विषय पर आज अंतिम निर्णय लिये जाने की उम्मीद है.

नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया, ‘प्रस्तावित सिटी टैक्सी योजना से संबंधित फाइल मंत्री की मंजूरी के लिए उनके कार्यालय में पड़ी है. एक बार मंत्री निर्णय ले लेते हैं, तो मसौदा उपराज्यपाल के पास भेजा जाएगा और इसके बाद इसे आम सलाह के लिए सार्वजनिक किया जाएगा.’ टैक्सी एग्रीगेटर्स अनुबंध कैरिज परमिट के साथ काम करते हैं जिसके अनुसार यात्रा के शुरुआती स्थल और गंतव्य के अंतिम बिंदु के बीच कहीं नहीं रुका जा सकता.

इसके विपरीत, सार्वजनिक सेवा परिवहन के लिए सरकारी कैरिज परमिट एक मार्ग पर अलग-अलग स्थानों पर लोगों को वाहन में सवार करने और उतारने की अनुमति प्रदान करता है. मोटर वाहन कानून 1988, अनुबंध कैरिज परमिट के तहत चलने वाली कैब को साझा सवारी की अनुमति नहीं देता है. यह केवल तभी संभव है जब कानून में संशोधन किया जाए.