फैशन के बदलते रूप ने बॉलीवुड इंडस्ट्री को भी काफी प्रभावित किया है. शर्मीला टैगोर बॉलीवुड की पहली अभिनेत्री थीं जिन्होंने अपने फैसले से सनसनी मचा दी थी. उन्होंने स्विमसूट पहनने का फैसला किया और फिल्मफेयर मैग्जीन के लिए कवर फोटोशूट भी कराया. ये मामला साल 1966 का है. ये कहना गलत नहीं होगा कि शर्मीला ने फिल्म इंडस्ट्री में इस सीन से तहलका मचा दिया था. कई दिनों तक इसपर चर्चा होती रही. यही नहीं, शम्मी कपूर के साथ फिल्माए गए गीत ‘आसमां से आया फरिश्ता’ में शर्मीला ने ब्लू स्विमसूट पहना. ये फिल्म थी ‘एन इवनिंग इन पैरिस (1967)’. इस सीन की वजह से ही गीत और कॉस्ट्यूम कई सालों तक दर्शकों के दिलों-दिमाग पर छाप छोड़कर गए.

हालांकि, शर्मीला ने खुद को इस इमेज में ही नहीं बांधा. एक ही डायरेक्टर की दूसरी फिल्म अराधना (1969) में उन्होंने यादगार किरदार निभाया. इस फिल्म में उनके सामने न्यूकमर राजेश खन्ना थे. इस फिल्म ने शर्मीला टैगोर को लेकर दर्शकों की धारणा को बदलकर रख गिया. हां, बॉलीवुड को ट्रेंड से हटकर सीन देने वाली हिरोइनों के लिए इंतजार थोड़ा लंबा जरूर करना पड़ा. 1973 में, देव आनंद, जीनत अमान और राखी स्टारर फिल्म हीरा पन्ना स्क्रीन पर रिलीज हुई. इस फिल्म में जीनत अमान एक मॉडल के रोल में थीं और एक इंटरनेश्नल ब्यूटी कॉन्टैस्ट की रियल लाइफ विनर थे. जीनत ने हिंदी फिल्म हिरोइन को लेकर बनी बनाई धारणाएं तोड़ डालीं.

इसी साल, राज कपूर ने एक टीनेज लव स्टोरी बॉबी को डायरेक्ट और प्रॉड्यूस किया. इस फिल्म में 16 साल की न्यूकमर डिंपल कपाडिया के सामने राज कपूर के बेटे ऋषि कपूर थे. ये ऋषि की पहली फिल्म थी. ये फिल्म सुपरहिट साबित हुई और डिंपल का स्विमसूट सीन भी खूब मशहूर हो गया. एक इंटरव्यू में राज कपूर ने कहा था कि उस स्विमसूट सीन का आइडिया मशहूर आर्चीज कॉमिक्स की वेरोनिका कैरेक्टर से आया था.

इन फिल्मों ने फिल्म इंडस्ट्री पर गहरा असर डाला और जल्द ही दर्शक ऐसे सींस को स्वीकार्य करने लगे. आज, किसी फिल्म में स्विमसूट सीन आम हो चुका है. मस्तीजादे में सनी लियोनी कई तरह के स्विमसूट कॉस्ट्युम्स पहनती दिखाई देती हैं. करीना ने टशन में स्विमसूट पहनी जिसके बाद पूरा देश उनके ‘जीरो साइज’ पर चर्चा करने लगा. यंग आलिया भट्ट भी स्विमसूट सींस से बिल्कुल परहेज नहीं करती हैं. करन जौहर के प्रॉडक्शन तले बनी शानदार में आलिया ने स्विमसूट पहनी जबकि ऐसी कोई डिमांड नहीं थी. कॉकटेल फिल्म में दीपिका पादुकोण के स्विमसूट सीन को लंबे वक्त तक दिखाया गया. इस फिल्म ने दीपिका का करियर बदलकर रख दिया और तभी से वो कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ रही हैं.

बिपाशा बसु ने यह सुनिश्चित किया कि धूम-2 में वह स्विमसूट परफेक्ट फिगर दिखाई दें. उन्हें इसके लिए ढेरों तारीफें मिली लेकिन उन्होंने माना कि इसके लिए उन्हें कड़ी मेहनत करनी पड़ी. एक्टर-डायरेक्टर फिरोज खान ऐसे सीन करवाने के लिए मशहूर रहे हैं. अपराध में मुमताज के साथ और कुरबानी में जीनत अमान के साथ वो ऐसे सींस करा चुके हैं. ये नजदीकियां में परवीन बाबी का बिकनी सीन इंडस्ट्री का पॉप्युलर टॉपिक रहा है.

हालांकि, स्विमसूट सीन का फायदा हर अभिनेत्री को मिला हो, ऐसा भी नहीं है. धूम सीरीज की पहली फिल्म में एशा देओल ने स्विमसूट सीन से अपनी इमेज बदलने की कोशिश की लेकिन इसका उनके करियर पर कोई असर नहीं हुआ. ब्लू फिल्म में लारा दत्ता की अंडरवाटर बिकनी परफॉर्मेंस बुरी तरह बेकार साबित हुई. बेवकूफियां में सोनम कपूर के एफर्ट पर बमुश्किल ही किसी की नजर गई.

हां, ये सूची बेहद लंबी और जाहिर सी बात है होगी भी, इसका सार यही है कि आज स्विमसूट पहनना एक आम बात हो गई है और इसमें नैतिकता जैसी कोई बात रह ही नहीं गई है. आइए अब अतीत की तरफ लौटते हैं. ब्लैक एंड वाइट दौर में भी कुछ अभिनेत्रियों ने स्विमसूट पहनने का दम दिखाया था. उस दौर में सिंपल वन पीस स्विमसूट को भी बोल्ड माना जाता था. 1938 में, अभिनेत्री मीनाक्षी शिरोडकर (शिल्पा शिरोडकर की दादी) ने इंडियन सिनेमा में पहला स्विमसूट सीन दिया. वो एक मराठी फिल्म ब्रह्मचारी थी. अभिनेत्री ने स्विमसूट पहनकर अभिनेता मास्टर विनायक (अभिनेत्री नंदा के पिता) को रिझाने की कोशिश की. विनायक फिल्म के डायरेक्टर भी थे..

इसके बाद, ये साफ नहीं है कि किस हिरोइन ने फिल्म में स्विमसूट पहना लेकिन कुछ तस्वीरें इसकी जरूर मिलती हैं. 1950 में, अभिनेत्री नलिनी जयवंत अशोक कुमार के साथ स्विमसूट कॉस्ट्यूम पहनकर सरगम फिल्म में गीत गाती हैं. इस फिल्म का निर्देशन डायरेक्टर ज्ञान मुखर्जी ने किया था. फिल्म जबर्दस्त हिट साबित हुई. 1951 में, आवारा फिल्म में रोमांटिक बीच सीन था जिसमें राज कपूरा और नरगिस कपूर अहम रोल में थे. नरगिस के सीन ने यहीं से राज कपूर के साथ उनके रिश्तों की जमीन तैयार की जिसकी चर्चा आज भी जारी है.

1958 में, फिल्म दिल्ली के ठग में अभिनेत्री नूतन स्विमिंग चैंपियन के रूप में नजर आती हैं. ये फिल्म कुछ अलग थी क्योंकि इसके क्लाइमेक्स में नूतन अभिनेता किशोर कुमार को समंदर से बचाती हैं, जिन्हें विलेन वहां फेक देता है. वह 1970 में फिल्म यादगार में फिर से स्विमसूट पहनती हैं. एक्ट्रेस तनुजा पिल्म चांद और सूरज (1965) में स्विमसूट में नजर आई थीं.

अप्रैल फूल फिल्म में शायरा बानो बेहद दिलकश अंदाज में स्विमसूट पहने दिखाई देती हैं. राज कपूर के साथ फिल्म संगम में वैजयंतीमाला स्विमसूट पहनती हैं. एक गीत में वैजयंतीमाला पूरे वक्त पानी में रहती हैं. इसके बाद कई अभिनेत्रियों ने जैसे राखी, श्रीदेवी और डांसर्स जैसे हेलेन, बिंदू, जयश्री आदि ने कई लीक से हटकर किरदार निभाए. ये सभी बिकनी में भी नजर आईं. मीना कुमार, वहीदा रहमान, जया भादुड़ी जैसी कुछ अभिनेत्रियां ऐसी भी थीं जो अपने दायरे से बाहर नहीं आईं और दबाव के बावजूद स्विमसूट सींस से दूर ही रहीं. स्विमसूट आज सिर्फ फैशन और ग्लैमर ही नहीं है बल्कि यह महिलाओं या हिरोइनों में स्वच्छंदता का भाव भी दिखाता है..