भारत के 48वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) के इंडियन पैनोरमा की जूरी के प्रमुख सुजॉय घोष ने फिल्म ‘सेक्सी दुर्गा’ व ‘न्यूड’ को महोत्सव से बाहर करने के फैसले के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. माना जा रहा है कि घोष के नेतृत्व में 13 सदस्यीय जूरी ने अपने द्वारा नामित सूची में दोनों फिल्मों को शामिल किया था, लेकिन सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा दी गई सूची से इन फिल्मों को बाहर रखा गया है.

घोष से पूछा गया कि क्या उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है, इस पर उन्होंने आईएएनएस से कहा, “हां, लेकिन मैं अभी और कुछ नहीं कह सकता हूं.”

जूरी में शामिल निशिकांत कामत, निखिल आडवाणी, अपूर्व असरानी, रुचि नारायण और ज्ञान कोरिआ ने मंत्रालय के इस कदम पर असंतोष व्यक्त किया है.

‘सेक्सी दुर्गा’ थियेटरों में ‘एस दुर्गा’ के नाम से रिलीज होगी. यह एक मलयालम फिल्म है. इसके निर्देशक सनल कुमार ससिधरन है. वहीं, ‘न्यूड’ एक मराठी फिल्म है जिसे राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता रवि जाधव ने निर्देशित किया है.

ससिधरन की फिल्म को पहले भी जियो मामी मुंबई फिल्म महोत्सव में दिखाने से मना कर दिया गया था. सूचना और प्रसारण मंत्रालय यह तर्क दिया था ‘इससे कानून-व्यवस्था प्रभावित हो सकती है क्योंकि यह धार्मिक भावनाओं को आहत करती है.’

घोर निराशा का इजहार करते हुए ससिधरन ने मंगलवार को फेसबुक पर लिखा, “मैं अपने देश में हो रही दुर्भाग्यपूर्ण बातों के बारे में सोच रहा हूं. यह सरकार तानाशाहपूर्ण तरीके से निर्दयतापूर्वक कलाकारों की सभी जगहों पर कब्जा कर रही है. यह कदम कलात्मक स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को नष्ट करने वाले कट्टरपंथी समूहों का समर्थन करता है.”

जाधव ने आईएएनएस से कहा कि वह ‘न्यूड’ को बाहर किए जाने की खबर सुनकर चकित हैं जिसे जूरी ने फिल्म समारोह की पहली फिल्म के तौर पर दिखाने का सुझाव दिया था.

इस फैसले से निराश निर्देशक जाधव ने कहा, “इसके नाम पर मत जाएं.”

यह फिल्म एक न्यूड मॉडल की मार्मिक कहानी है जो चित्रकारों के लिए पोज देती है.

–आईएएनएस