विद्या बालन की कहानी की सफलता के बाद उन्हें कहानी 2 में देखना लोगों के लिए एक अच्छा अनुभव हो सकता है। निर्देशक सुजॉय घोष की यह फिल्म आपको शरू से आखिरी तक बांधे रखने के लिए काफी है। इसके पहले पार्ट की तरह ही फिल्म की कहानी काफी दमदार है। हालांकि फिल्म का विषय काफी संवेदनशील है, जिसे सहीं तरह से डायरेक्ट न किया जाता, तो फिल्म बर्बाद हो सकती थी। पर सुजोय घोष ने ऐसी कोई गलती नही की। उन्होंने बड़े ही उम्दा तरीके से फिल्म को इंटरेस्टिंग ट्विस्ट और टर्न के साथ पेश किया है और फिल्म को थ्रिल और सस्पेंस के साथ इंटरेस्टिंग बनाया है।

फिल्म की कहानी है दुर्गा रानी सिंह नाम की एक महिला की, जो बचपन में शारीरिक शोषण का शिकार हो चुकी है। जिसका असर उसकी लव लाइफ पर पड़ता है। वह अपने आप को उस अँधेरे से बचाने के लिए एक 6 साल की ऐसी बच्ची की मदद करती है, जो छोटी सी उम्र में शारीरिक शोषण को झेल रही होती है। इस बच्ची के साथ दुर्गा रानी सिंह अपने आप  को पूरी तरह से जोड़ लेती है और उसे मुश्किलों से बचाने के लिए अपनी जान की भी परवाह नही करती। इस फिल्म में दुर्गा रानी सिंह का साथ निभाते हैं इन्द्रजीत सिंह, जिसका रोल अर्जुन रामपाल ने किया है। ये भी पढ़ें: ‘कहानी 2’ के डायरेक्टर सुजॉय घोस ने नोट बंदी खिलाफ दिया बड़ा बयान

बात करें अभिनय की, तो विद्या बालन ने अपने किरदार को बेहद उम्दा तरीके से निभाया है। फिल्म में उनकी एक्टिंग सराहनीय है। अपने किरदार को इस फिल्म की कहानी के अनुरूप ढालने का काम विद्या बालन से बेहतर और कोई नही कर पाता। वहीं अर्जुन रामपाल ने भी विद्या बालन का बखूबी साथ निभाया है। अर्जुन रामपाल का अभिनय भी आपको उनके किरदार के साथ बाँधने में कामयाब होता दिखाई देगा।

फिल्म की कहानी बेहद इंटरेस्टिंग है, जो आपको बोर नही होने देगी। वहीं फिल्म का डायरेक्शन भी ऐसा है, जो आपको शुरू से अंत तक इसके साथ जोड़कर रखेगा। हालांकि फिल्म का क्लाइमेक्स और भी इंटेरेस्टिंग हो सकता था, इसलिए कहानी के अंत में काम की कमी आपको खल सकती है। फिर भी कहानी शुरुआत से अच्छी होने के कारण आप इस बात को नज़रंदाज़ कर पाएँगे।

फिल्म में संगीत न के बराबर है, लेकिन फिर भी फिल्म की कहानी का साथ दे सकने में समर्थ माना जा सकता है। कुल मिलाकर सुजोय घोष निर्देशित कहानी 2 आपके लिए पैसा वसूल साबित हो सकती है।