फिल्मकार विशाल भारद्वाज ने कहा कि ‘तलवार’ आरुषि तलवार हत्या मामले और इसके विभिन्न जांच सिद्धांतों को एक बार फिर से प्रकाश में लाई थी. इस मामले में आरुषि के माता-पिता को अदालत द्वारा बरी कर देने पर फिल्म निर्माता का कहना है कि यह सिनेमा की जीत है. इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने गुरुवार को अपने फैसले में राजेश व नुपुर तलवार को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया.

यह पूछने पर कि क्या फिल्म ने दर्शकों के बीच किसी भी तरह की जागरुकता पैदा की, भारद्वाज ने कहा, “मुझे लगता है कि हमारी फिल्म के कारण यह मामला कुछ समय के लिए प्रसिद्ध हो गया क्योंकि छिपी हुई चीजें भी हमारी फिल्म के जरिए लोगों के बीच पहुंची. कई पहलू हैं जो संदिग्ध थे और हमारी फिल्म में हमने तटस्थ का रुख अख्तियार किया और हमने किसी का पक्ष नहीं लिया.”

उन्होंने कहा, “हमने फिल्म में दिखाया कि जांच में क्या हुआ और दिल्ली पुलिस और सीबीआई दोनों एजेंसियों ने क्या कार्रवाई की थी, जिससे चीजें बहुत स्पष्ट हो गईं थीं.”

भारद्वाज यहां जियो मामी के 19 वें मुंबई फिल्म महोत्सव के उद्घाटन समारोह में उपस्थित थे, जिसमें अभिनेत्री कोंकणा सेन शर्मा भी शामिल हुईं.

कोंकणा ने कहा, “यह खबर शानदार है. यह वास्तव में शर्म की बात है कि उन्हें आजाद होने के लिए नौ साल लग गए. यह भी दुखद है कि हम अब भी नहीं जानते कि हेमराज (नौकर) और आरुषि के हत्यारे कौन हैं, लेकिन मैं तलवार दंपति के लिए बहुत खुश हूं.”

–आईएएनएस