हिंदी गज़ल के पहले शायर और सत्ता के खिलाफ मुखर होकर खड़े होने वाले लेखक दुष्यंत कुमार का आज जन्मदिन है. उनकी गज़लों के कुछ शेर युवाओं की ज़ुबां पर चढ़े हुए हैं. 1 सितंबर 1933 को उत्तर प्रदेश के राजपुर नवादा में जन्मे दुष्यंत कुमार को इलाहाबाद ने खूब संवारा. उसके बाद दिल्ली और भोपाल में भी वो कई वर्षों तक रहे. उनकी पहचान लेखन के दम पर बनी है. आज जन्मदिन के खास मौके पर हम दुष्यंत कुमार की मशहूर गज़लों और कविताओं की प्रस्तुति लेकर आए हैं. आप भी पढ़िए और दोस्तों के साथ शेयर कीजिए…

Picture 1 of 7