नई दिल्ली. कांग्रेस में उपाध्यक्ष राहुल गांधी की ताजपोशी अटकलें तेज हो चली हैं. अलग अलग राज्य राहुल को अध्यक्ष बनाने के लिए प्रस्ताव पारित कर रहे हैं. वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने शुक्रवार को कहा कि 2019 में राहुल ही देश का असली चेहरा होंगे और प्रधानमंत्री के तौर पर वापस लौटेंगे. इन सबपर भी, राहुल के लिए अभी खुद को साबित कर लेना बाकी है. गुजरात में वह पूरा दम खम लगा रहे हैं लेकिन वह कांग्रेस को विजय के द्वार तक लेकर जा पाते हैं या नहीं, इसपर पूर्ण विश्वास करना थोड़ा मुश्किल जरूर है. 

गुजरात की जंग में कौन पड़ेगा भारी? जानिए 2012 चुनाव में किसे मिली थी कितनी सीटें

गुजरात की जंग में कौन पड़ेगा भारी? जानिए 2012 चुनाव में किसे मिली थी कितनी सीटें

राहुल अपनी गुजरात यात्रा में मंदिरों के दौरे कर रहे हैं. वह कडवा पाटीदारों की देवी उमिया माता मंदिर भी जा चुके हैं. राहुल हाल में जब गुजरात के दौरे पर थे, और सौराष्ट्र में नवसर्जन यात्रा के दौरान रोड शो कर रहे थे. व्यापारियों, किसानों से जुड़ने की कोशिश करते दिखाई दिए. राहुल के शेड्यूल को बेहतर रणनीति के साथ तय किया गया है. वह कई मंदिरों में दर्शन कर रहे हैं. राहुल ने अपने दौरे पर कई मंदिरों में दर्शन भी किए हैं. राहुल चामुंडा देवी के मंदिर भी गए, जहां वो 15 मिनट में ही 638 सीढ़ियां चढ़ गए. वह काठियावाड़ी लोगों के मंदिर खोडलधाम मंदिर भी गए.

इस दौरान वह पार्टी कार्यकर्ताओं के घरों पर चाय पीना भी नहीं भूले. राहुल से लोग मिलने आते तो सेल्फी भी खिंचवाते और उनके कटाक्ष वाले तंज पर खिलखिलाकर हंसते भी. राहुल के दौरे का दूसरा चरण, जो बुधवार को खत्म हुआ, उसने सत्ताधारी पार्टी बीजेपी के नेताओं की चिंता जरूर बढ़ा दी है. राहुल के जवाब में बीजेपी ने शुक्रवार को योगी आदित्यनाथ को मैदान में उतारा. योगी आदित्यनाथ ने गुजरात में अपने 3 दिवसीय दौरे के पहले दिन कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर हमला बोला. गुजरात के वलसाड में योगी ने कहा कि राहुल गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी में विकास के लिए कुछ नहीं किया. जब हमने वहां के लोगों के लिए कदम उठाए तो कांग्रेस बौखला गई है. 

अमित शाह ने गुजरात में 150 सीटों का महत्वाकांक्षी लक्ष्य क्यों रखा?    

अमित शाह ने गुजरात में 150 सीटों का महत्वाकांक्षी लक्ष्य क्यों रखा?    

योगी ने चुटकी लेते हुए कहा, ‘अमित भाई (बीजेपी अध्यक्ष) यहां आते हैं पर राहुल गांधी इटली भाग जाते हैं, तब उन्हें गुजरात की याद नहीं आती। समझो जहां राहुल गांधी प्रचार करने चले गए, वहां कांग्रेस की हार पक्की है।’ योगी ने राहुल पर निशाना साधा लेकिन कांग्रेस राहुल को गुजरात में उसी रणनीति के साथ आगे कर रही है जिसपर बीजेपी और संघ वर्षों से चल रहे हैं.

राहुल गुजरात में 800 किलोमीटर की यात्रा कर रहे हैं. यह यात्रा केंद्र गुजरात के खेडा, आणंद, वडोदरा, छोटा उदयपुर, दाहोद और पंचमहल से होकर गुजर रही है. राहुल आम सभाओं में जनता से संवाद के लिए 28 जगहों पर रुकेंगे. वह पीएम मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह में रणनीति के तहत हमले कर रहे हैं. यात्रा के दूसरे चरण में उन्हें नादियाड के संतराम मंदिर, पेटलाड के रनछोड मंदिर, दाहोद के कबीर मंदिर और फागवेल के भाठीजी महाराज मंदिर का दौरा भी करना है. गऊ को आहार खिलाना भी उनकी यात्रा में शामिल है.

अपनी दादी और दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के कहे शब्द ‘गुजरात की बहू’ को याद करते हुए राहुल खुद को ‘गुजरात का बेटा’ कहना नहीं भूलते. इससे वह स्थानीय लोगों से भावनात्मक रूप से जुड़ने की कोशिश कर रहे हैं. हालांकि आरएसएस शाखाओं में महिलाओं के शॉट्स में आने के बयान ने राहुल को निशाने पर ला दिया है. ये बयान कांग्रेस के खिलाफ भी जा सकता है. बीजेपी ने राहुल पर विदेशी सोच होने का आरोप लगाकर हमला किया जबकि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह पर ‘इटैलियन ग्लासेस’ का बयान देकर हमला बोला. 

लोकसभा चुनाव 2019: मोदी को हराने के लिए राहुल गांधी को मिला 'अमेर‍िकी हथ‍ियार'?

लोकसभा चुनाव 2019: मोदी को हराने के लिए राहुल गांधी को मिला 'अमेर‍िकी हथ‍ियार'?

अगस्त महीने में राज्यसभा चुनाव में अहमद पटेल की जीत से जोश में आई कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का भरोसा बढ़ा है. लेकिन राहुल के पूर्व के अनुभव इस बात के सबूत हैं कि गुजरात में भी अगर कांग्रेस की बढ़त के दावे किए जा रहे हैं तो भी यकीन मुश्किल है. राहुल भले कहें कि कांग्रेस का सपोर्ट अंडरकरंट है लेकिन हकीकत जनता के मन में है जो नतीजों के रूप में बस दो माह बाद ही सामने होगा.