गेंदा बाग-बगीचों, घर-आँगन और रास्तों के किनारे बहुतायत में उगता हुआ देखा जा सकता है। ये बाज़ार में भी काफी सस्ता बिकता है। भारत के अधिकांश राज्यों में इसके सुंदर फूलों के लिए खेती की जाती है, कहा जाता है कि देवी-देवताओं को गेंदा के फूलों से काफी लगाव है। गेंदा का वानस्पतिक नाम टेजेटेस इरेक्टा है। वैसे आपको ये तो पता होगा कि गेंदे का इस्तेमाल सजावट और पूजा आदि के लिए किया जाता है, लेकिन ये बात शायद कम ही लोग जानते हैं कि गेंदे का इस्तेमाल गेंदे अनेक हर्बल नुस्खों के तौर पर भी किया जाता है। चलिए आज जानते हैं गेंदा से जुड हर्बल नुस्खों के बारे में..

1) जिन पुरुषों को स्पर्मेटोरिया (पेशाब और मल करते समय वीर्य जाने की शिकायत) हो उन्हे गेंदे के फूलों का रस पीना चाहिए।

2) गेंदा के पत्तों का रस कान में डाला जाए तो यह कान दर्द को खींच लेता है। इसकी पत्तियों को कुचलकर रस तैयार करें और इस रस की २ बूंदों को कान में डालने से दर्द कम हो जाता है।

3) यदि गेंदा के फूलों को सुखा लिया जाए और इसके बीजों को एकत्र कर मिश्री के दानों के साथ समान मात्रा (५ ग्राम प्रत्येक) का सेवन कुछ समय तक दिन में दो बार किया जाए तो यह पुरुषों को शक्ति और प्रदान करता है। इसे भी पढ़ें – जानिये शहद के ऐसे 7 परंपरागत नुस्ख़े जो आपने पहले कभी नहीं सुने होंगे

4) सूखे हुए गेंदे के फूल को मिश्री के साथ खाने की सलाह उन रोगियों को दी जाती है जिन्हें दमा और खाँसी की शिकायत है।

5) गेंदा के पत्तों को मोम में गर्म करके ठंडा होने पर पैरों की बिवाई पर लगाने से आराम मिल जाता है, तालु चिकने हो जाते है।

5) बवासीर के रोगी को यदि गेंदा की पत्तियों का रस, काली मिर्च और नमक का घोल पिलाया जाए तो आराम मिल जाता है। इसे भी पढ़ें – आलू-टमाटर से दूर करें चेहरे की झुर्रियां, दाग-धब्बे और मुंहासे

6) गेंदे के फूल की पंखुडियों को एकत्र कर पीस लिया जाए और शरीर के सूजन वाले हिस्सों में लगाया जाए तो सूजन मिट जाती है।

7) जिन्हें सिर में फोड़े, फ़ुन्सियाँ और घाव हो जाए उन्हे मैदा के साथ गेंदा की पत्तियों और फूलों के रस को मिलाकर सप्ताह में दो बार सिर पर लगाना चाहिए, आराम मिल जाता है।

(ये हर्बल टिप्स डॉक्टर डीपक आचार्य जी के हैं।  वे पिछले 18 सालों से भारत के सुदूर वनवासी इलाकों से पारंपरिक हर्बल ज्ञान को संकलित कर आधुनिक विज्ञान की नज़रों से परख रहें हैं। पेशे से वैज्ञानिक डॉ आचार्य ने अब तक 6 किताबें लिखी हैं। हाल ही में उनकी किताब हर्बल जीवन मंत्रआई है।)