नई दिल्ली: मेक्सिको के कोलिमा में रहने वाला लुईस मैनुएल गोंजेल्स अभी सिर्फ 10 महीने का है लेकिन उसका वजन किसी 9 साल के बच्चे के बराबर है. अपने इसी वजन के कारण उसे दुनिया के सबसे भीमकाय बच्चे का तमगा जरूर मिल गया है, लेकिन बच्चे का बढ़ता वजन उसके माता-पिता के लिए परेशानी का सबब बनता जा रहा है. हैरानी की बात ये है कि डॉक्टर भी इस बढ़ते वजन का कारण नहीं खोज पाए हैं.

जन्म के समय गोंजेल्स का वजन किसी सामान्य बच्चे की तरह 8 पौंड था, लेकिन इस समय उसका वजन लगभग 62 पौंड है. इतना वजन किसी 9 साल तक के बच्चे का होता है.

आसमान को छूती दुनिया की 5 सबसे ऊंची इमारतें

आसमान को छूती दुनिया की 5 सबसे ऊंची इमारतें

डॉक्टरों का कहना है कि गोंजेल्स की ये समस्या शरीर में हॉर्मोंस के असंतुलन की वजह से है. उनका यह भी अनुमान है कि ये एक दुर्लभ आनुवांशिक बीमारी विली सिंड्रोम भी हो सकती है, लेकिन फिलहाल स्पष्ट वजह अभी तक पता नहीं चल सकी है.

मेल ऑनलाइन से बातचीत में गोंजेल्स की मां इजाबेल पंटोजा और पिता मारियो ने बताया कि ऐसा भी नहीं है कि वह ज्यादा खाना खाता है. वह अपनी उम्र के हिसाब से सामान्य डाइट ही लेता है. उन्होंने बताया कई डॉक्टरों को दिखाने के बाद अब गोंजेल्स का केस सर्जन सिल्विया ओरोज्को के पास है. उन्होंने हाल ही में इसका परीक्षण किया गया है. अभी रिपोर्ट्स आना बाकी है.

ओरोज्को का मानना है कि संभव है गोंजेल्स के गर्भाशय में होने के दौरान उसकी मां के भोजन में पोषक तत्वों की कमी रही हो. जिससे उसका मेटाबॉलिक सिस्टम गड़बड़ा गया. उन्होंने कहा कि टिशू एनालिसिस की रिपोर्ट को देखकर तो यही साबित होता है. ओरोज्को को ये भी लगता है कि हॉर्मोन शॉट्स के साथ गोंजेल्स ठीक हो सकता है.