नई दिल्ली: वैज्ञानिकों ने एक नई दवा की पहचान की है जो किशोर और किशोरियों में शराब पीने की इच्छा को खत्म कर सकती है. ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ एडिलेड के शोधकर्ताओं ने शराब सेवन जैसी उन नुकसानदेह गतिविधयों को रोकने का रास्ता खोज निकाला है जिन्हें वयस्क हो रहे लोगों में ज्यादा देखा जाता है.

भारत में एनीमिया और मोटापा है गंभीर समस्या

भारत में एनीमिया और मोटापा है गंभीर समस्या

इसके लिए वैज्ञानिकों ने चूहे को एक ऐसी दवा दी जो प्रतिरक्षा तंत्र द्वारा दिमाग में भेजी जाने वाली एक खास प्रतिक्रिया को बाधित करती है. उन्होंने नेलट्रेक्सॉन नामक एक दवा का इस्तेमाल किया जिसे प्रतिरक्षा रिसेप्टर टीएलआर 4 को अवरुद्ध करने के लिए जाना जाता है.

वैत्रानिकों का कहना है कि किशोरावस्था में दिमाग अपेक्षाकृत अपरिपक्व होता है. अत्याधिक शराब सेवन से यह अपरिपक्वता बढ़ सकती है क्योंकि शराब, विकास की सामान्य प्रक्रियाओं को प्रभावित करती है. यह शोध न्यूरोफार्माकोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.