बीजिंग: चीन के वैज्ञानिकों ने मूल कोशिका प्रत्यारोपण (स्टेम सेल ट्रांसप्लांटेशन) के जरिये एक मरीज के क्षतिग्रस्त फेफड़े को दुरूस्त किया है. चिकित्सा के क्षेत्र में इसे एक महत्वपूर्ण खोज के रूप में देखा जा रहा है, जिससे फेफड़े की गंभीर बीमारी का इलाज संभव हो पाएगा. प्रत्यारोपण के इस आरंभिक नैदानिक परीक्षण में तोंगजी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने मरीज के श्वासनली से मूल कोशिकाएं निकालीं और उनमें कई गुना वृद्धि होने दिया. उसके बाद कोशिकाओं को मरीज के फेफड़ों में प्रत्यारोपित किया.

इससे पहले, चूहों में यह मूल कोशिका प्रत्यारोपण सफल रहा था. चूहों के फेफड़ों में मानव की श्वासनली व वायुकोश की कोशिकाओं में पुनरुत्थान देखा गया. धमनी रक्त गैस विश्लेषण में पाया गया कि चूहों के फेफड़े की गतिविधियों में जबरदस्त सुधार था.

विश्वविद्यालय के प्रोफेसर वेई जुओ ने कहा, “हृदय और कैंसर की बीमारी के बाद तीसरा रोग, जिससे दुनिया में सबसे ज्यादा लोगों की मौत होती है व फेफड़े की बीमारी है.
इसके मरीजों के लिए यह सबसे बड़ी उम्मीद जगी है कि ब्रोंकिएटिस और इंटर्स्टिटियल लंग डिजीज का इलाज मूल कोशिका प्रत्यारोपण से हो सकता है.”