जम्मूः भारतीय सेना ने कहा है कि पाकिस्तान में 300 से ज्यादा आतंकवादी नियंत्रण रेखा से भारत में घुसपैठ करने के लिए तैयार हैं. साथ ही यह भी कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवादी घटनाओं के पीछे पाकिस्तानी सेना प्रमुख भूमिका निभाती है. लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अन्बू ने सेना की उत्तरी कमान के उधमपुर मुख्यालय पर संवाददाताओं से कहा, “पीर पंजाल के दक्षिण में 185-220 आतंकवादी और उत्तर में 190-225 आतंकवादी घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं.

अधिकारी ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवादी हमलों की योजना बनाने में प्रत्यक्ष रूप से पाकिस्तानी सेना का हाथ होता है. सुंजुवान सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमले के बाद भारतीय कार्रवाई की संभावना के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, “नियंत्रण रेखा पर कार्रवाई काफी जटिल और चुनौतीपूर्ण है. मुझे नहीं लगता कि हमें वास्तव में उनके साथ भी जैसे का तैसा करने की जरूरत है.

ये भी पढ़ेंः भारत पर होंगे और हमले, नए तरह के परमाणु हथियार भी बना रहा पाक: यूएस खुफिया प्रमुख

उन्होंने कहा कि हम अपनी योजना और रणनीति के अनुसार काम करेंगे. पाकिस्तान द्वारा संघर्ष विराम के उल्लंघन पर उन्होंने कहा कि भारतीय सैनिकों की जवाबी कार्रवाई में 192 पाकिस्तानी सैनिक मारे जा चुके हैं. सैन्य अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान मानता है कि दो घटनाओं में उसके मात्र छह या सात लोग मरे हैं लेकिन हमारे सूत्रों ने बताया कि यह संख्या ज्यादा है.

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में कश्मीर में आतंकी हमले में भारतीय सेना के कई जवान शहीद हुए हैं वहीं सेना ने कई आतंकियों को भी मार गिराया है. सुंजवान में आतंकी हमले में सेना से 6 जवानों के शहीद होने के बाद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने जम्मू कश्मीर के दौरे के बाद कहा था कि आतंकी हमले में पाकिस्तान का हाथ है. उन्होंने कहा था कि भारतीय जवानों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी. पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब दिया जाएगा.

अमेरिका ने भी दी थी चेतावनी
अमेरिका के खुफिया प्रमुख नेशनल इंटेलीजेंस के निदेशक डैन कोट्स ने मंगलवार को कहा था कि पाकिस्तान समर्थित आतंकी समूह भारत के भीतर हमले जारी रखेंगे और ऐसे में दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने का खतरा है.कोट्स ने सीनेट की प्रवर समिति के समक्ष सुनवाई में कहा था कि इस्लामाबाद समर्थित आतंकी समूह भारत और अफगानिस्तान में हमले की योजना बनाने और हमले करने के लिए पाकिस्तान में अपनी सुरक्षित पनाहगाह का लाभ उठाना जारी रखेंगे. पाकिस्तान के किसी आतंकी संगठन का नाम लिए बगैर कोट्स ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने के आसार हैं.