नई दिल्ली: नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की ताजा रिपोर्ट में बताया गया है कि देश में पिछले साल ड्रग अपराधों के लिए गिरफ्तार किए गए विदेशियों में से 40 प्रतिशत लोग नाइजीरियाई थे. साल 2017 के लिए केंद्रीय एजेंसी द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक, भारत में नशीली दवाओं संबंधी अपराधों के लिए कुल 397 विदेशियों को पकड़ा गया. इनमें से 157 विदेशी नाइजीरियाई और 95 नेपाली नागरिक थे जबकि 46 लोग म्यामां के और 13 व्यक्ति दक्षिण अफ्रीका के थे.

आंकड़ों के अनुसार , वर्ष 2017 में नशीली दवाओं संबंधी अपराधों के सिलसिले में पकड़े गए विदेशियों में सर्वाधिक संख्या नाइजीरिया के लोगों की थी. मादक द्रव्य के खिलाफ खतरे को लेकर समन्वित प्रयास करने वाली प्रवर्तन एजेंसी नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने ही 21 नाइजीरियाई लोगों को गिरफ्तार किया. शेष को विभिन्न राज्यों की पुलिस इकाइयों सहित विभिन्न विभागों ने पकड़ा.

ड्रग प्रिवेंशन के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि ये आंकड़े ऐसे अपराधों में नाइजीरियाई लोगों और अन्य अफ्रीकी देशों के लोगों की संलिप्तता का चलन बताते हैं. उन्होंने बताया कि वर्ष 2016 में ड्रग अपराधों के लिए देश भर में 68 नाइजीरियाई नागरिक और 91 नेपाली नागरिक पकड़े गए थे. ड्रग अपराधों के लिए इसी अवधि में पकड़े गए म्यामां के नागरिकों की संख्या 27 और दक्षिण अफ्रीका के नागरिकों की संख्या पांच थी. (इनपुट- एजेंसी)