सरकार ने पेट्रोल पंपों और हवाईअड्डों पर टिकट खरीद में पुराने 500 रुपये के नोट के उपयोग पर शनिवार से रोक लगाने का फैसला किया है। वहीं नेशनल हाईवे पर पुराने नोट में टोल के भुगतान के लिए मिली छूट भी शुक्रवार से समाप्त हो जाएगी। इससे पहले इन तीनों जगहों पर पुराने नोटों के उपयोग की छूट 15 दिसंबर तक दी गई थी। इससे पहले सरकार ने 1000 रुपये के पुराने नोटों के इस्तेमाल पर रोक लगाई थी।

वित्त मंत्रायल का मानना है कि कई जगहों पर पेट्रोल पंप वाले कमिशन लेकर पुराने नोट बदलने का काम कर रहे हैं। क्योंकि पेट्रोल पंप को ऑयल कंपनी को पैसा चैक से देना होता है। ऐसे में जब पेट्रोल पंप पर पांच सौ के पुराने नोट आते हैं तो वह उन्हें बैंक में जमा कर देते हैं और नए नोटों को कमीशन लेकर बदलने के काम में लगा देते हैं। कई जगहों पर पेट्रोल पंप वाले 30-35 फीसदी कमीशन ले रहे हैं। यह भी पढ़े-पेट्रोल पंप-एयरलाइंस टिकट में 500 के पुराने नोट के इस्तेमाल का आज आखिरी दिन

वित्त मंत्रालय ने कहा कि मुद्रा का उत्पादन, उसे भेजने एवं वितरण की प्रक्रिया जारी है और धीरे-धीरे अधिक नकदी बैंकों में जा रही है। साथ ही डिजिटल भुगतान में भी उल्लेखनीय प्रगति हुई है। आने वाले दिनों में इसमें उल्लेखनीय सुधार की उम्मीद है। अब कहां-कहां चलेंगे 500 रुपये के नोट, पढ़ें

1) सरकारी अस्पतालों और दवा की दुकानों पर, पर डॉक्टर का लिखा हुआ पर्चा दिखाना अनिवार्य।

2) रसोई गैस के सिलेंडर लेने के दौरान।

3) रेलवे टिकट काउंटरों पर टिकट लेने के दौरान।

4) रेल यात्रा के दौरान कैटरिंग सेवाओं का इस्तेमाल करने के दौरान।

5) कंज्यूमर को-ऑपरेटिव स्टोरों पर और इन स्टोर से एक बार में 5,000 रुपये तक की खरीदारी ही कर सकते हैं।

6) केंद्र और राज्य सरकार के अधिकृत दूध सेंटरों पर।

7) राज्य बसों में सफर के दौरान टिकट लेने के दौरान।

8) श्मशान घाटों पर।

9) सब-अर्बन, मेट्रो रेल सर्विसेज की टिकट खरीद और मेट्रो कार्ड रिचार्ज कराने के दौरान।

10) पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित किसी भी स्मारक का प्रवेश शुल्क खरीदने के दौरान।

11) केंद्र, राज्य, म्युनिसिपल व लोकल बॉडीज में फीस, चार्जेज, टैक्सेज, जुर्माना भरने हेतु।

12) यूटिलिटी चार्जेज जैसे पानी, बिजली का बिल। हालांकि इन्हें किसी भी तरह से अडवांस में भरने के लिए नोट मान्य नहीं हैं।

13) कोर्ट फीस के तौर पर पुराने नोट मान्य।

14) केंद्र सरकार, राज्य सरकार द्वारा संचालित स्कूलों में 2,000 रुपये प्रति छात्र तक स्कूल फीस दी जा सकती है। साथ ही केंद्र, राज्य के कॉलेजों की फीस।

15) 500 रुपये का प्री-पेड टॉप-अप रीचार्ज करवाया जा सकता है।