जम्मू से 20 किलोमीटर दूर नगरोटा और सांबा में हुआ आतंकी हमला अब खत्म हो चुका है। इस एनकाउंटर के खत्म होने के बाद अब  सेना पुरे इलाके का सर्च ऑपरेशन कर रही है। आपको बता दें कि नगरोटा में सेना की यूनिट पर कल सुबह हुए हमले में कुल सात जवान शहीद हुए हैं. इनमें 2 अफसर हैं और 5 जवान हैं। इस आतंकी हमले में भारत को बड़ा नुकसान पहुंचाने के फिराक से आये थे। इस हमले के दौरान आतंकियों के पास से 18 मैगजीन, 25 ग्रेनेड, तीन आइइडी बेल्ट, पांच चेन आइइडी और एक वायरलेस सेट मिला है। अगर आतंकी अपने मंसूबों में कामयाब हो जाते तो तो जम्मू में भीषण तबाही मच जाती। सेना के जवानों के तरफ से तलाशी अभियान जारी है। सूत्रों के माने तो इस हमले में आतंकियों के निशाने पर आयुध भंडार था।

इस आतंकी हमले के बाद जांच में एक बड़ा खुलासा यह भी हुआ है कि आतंकी जम्मू के सांबा में चलती ट्रेन में ब्लास्ट या पठानकोट जैसे हमले को अंजाम देना चाहते उनके पास केमिकल भी मिले हैं। आतंकियों का प्लान था की सेना के जवानों पर केमिकल फेकें ताकि वो सभी जल जाए। शहीद जवानों में नगरोटा में हमले में महाराष्ट्र पंढरपुर निवासी मेजर कुणाल गोसावी, मेजर अक्षय गिरीश शाह समेत पांच जवान जिसमें हवालदार 32 वर्षीय सुखराज सिंह गुरदासपुर, नांदेड़ निवासी लांसनायक संभाजी यशवंत और कांस्टेबल राघवेंद्र कदम शहीद हो गये। यह भी पढ़ें: जम्मू कश्मीरः आज तड़के से जारी मुठभेड़ में 3 जवान शहीद, 5 आतंकवादी मारे गए

सुरक्षाबलों ने क्षेत्र को चारों ओर से घेरकर जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर दिया है।आपको बता दें इन हमलों में 2 ऑफिसर, 7 जवान शहीद हो गए। मंगलवार को नगरोटा और चमलियाल में आतंकियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाया था।  फिलहाल सेना को शक है की एक और आतंकी छिपा हो सकता है और उसी की तलाश में सेना ने कॉम्बिंग ऑपरेशन शुरू कर दिया है।