नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने यूनिवर्सिटीज के प्रोफेसर्स को दिवाली से ठीक पहले बड़ा तोहफा दिया है. केंद्र सरकार ने सभी कॉलेज प्रोफेसरों और स्कूल के शिक्षकों को सातवें वेतन आयोग लाभ देने का निर्णय लिया है. मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर घोषणा करते हुए कहा इसका लाभ 43 केंद्रीय विश्वविद्यालयों और सरकारी सहायता पाने वाले विश्वविद्यालयों के 7.51 लाख अध्यापकों को लाभ मिलेगा.

इस दौरान प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कहा कि सातवें वेतन आयोग का फायदा अध्यापकों लाभ एक जनवरी 2016 से मिलेगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ये बढ़त 10 हजार से लेकर 50 हजार तक की हर कैटेगिरी में है. मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया यह वेतन वृद्धि 22 प्रतिशत शुरू होकर 28 प्रतिशत के बीच की गई है.

इसका फायदा केंद्रीय विद्यालयों में आईआईटी, आईआईएम, ट्रिपल आईटी जैसे कुल 213 केंद्रीय संस्थानों के 58 हजार अध्यापकों को फायदा मिलेगा. इसके साथ ही केंद्र सरकार की सहायता प्राप्त 213 संस्थानों, 329 राज्य और 12,912 कॉलेजों के तकरीबन 7 लाख शिक्षकों को भी इसका फायदा मिलेगा.

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि सरकार के इस फैसले से सालाना 1,400 करोड़ रुपये का भार केंद्र पर पड़ेगा. वहीं स्कूल और कॉलेजों के शिक्षकों की वेतन वृद्धि के कारण केंद्र पर सालाना 8,400 करोड़ रुपये का भार पड़ेगा.