नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी को केंद्र सरकार की ओर से एक और झटका लगा है. गृह मंत्रालय की सिफारिश पर दिल्ली के उपराज्यपाल ने डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के सलाहकार पद सहित 8 मंत्रियों के सलाहकारों को हटा दिया है. रिपोर्ट के मुताबिक, मंत्रालय की ओर से दिल्ली के मंत्रियों को सलाहकार न रखने की हिदायत भी दी गई है.

दिल्ली सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी एक आदेश के अनुसार केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक पत्र में कहा है कि जिन पदों पर नियुक्तियां हुई हैं , वह मंत्रियों और मुख्यमंत्री के लिए नियुक्त होने वाले पदों की सूची में नहीं है. आदेश में कहा गया है कि इन पदों को सृजित करने के लिए केंद्र सरकार से पूर्व में मंजूरी नहीं ली गई.

चड्ढा-मर्लेना को हटाया

जिन सलाहकारों को हटाया गया है उनमें राघव चड्ढा और आतिशी मर्लेना के नाम शामिल हैं. राघव चड्ढा दिल्ली के वित्त मंत्री के सलाहकार थे जबकि आतिशी मर्लेना शिक्षा मंत्री की सलाहकार थीं. हालांकि चड्ढा ने कहा कि सलाहकार के तौर पर मेरी नियुक्ति 31 मार्च 2016 में ही खत्म हो गई है. तो अब गृह मंत्रालय ने किस पद से मुझे हटा रहा है.

चड्ढा ने ट्वीट कर कहा- गृह मंत्रालय मुझे किस बात पर मुझे हटा रहा है? नियुक्ति की क्या शर्तें थीं लोग यहां देख सकते हैं. धन्यवाद. चड्ढा की ओर से दिखाए गए डॉक्यूमेंट में लिखा है कि उन्हें जनवरी 2015 से 31 मार्च 2016 तक दिल्ली के वित्त मंत्री के सलाहकार के तौर पर नियुक्त किया जाता है. इस दौरान वह टोकन के तौर पर मात्र एक रुपये सेलरी लेंगे.

चड्ढा ने कहा कि बीजेपी की ओर से ये गृह मंत्रालय की हमें परेशान करने की चाल है. इनकी मंशा जनता का ध्यान रेप और कैश की कमी की ओर से लोगों का ध्यान बंटाना है. मुझे उस पद के लिए बर्खास्त किया गया जिसमें मैंने 45 दिन के लिए महज 2.50 रुपये ही वेतन के रूप में लिए थे.