नई दिल्ली: बागी आप विधायक कपिल मिश्रा आज अपनी मांग को लेकर दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष के आसन के नजदीक पहुंच गए और सदन की कार्यसूची की एक प्रति को फाड़ दिया, जिसके बाद उन्हें मार्शल के जरिये विधानसभा से बाहर कर दिया गया. वह ‘रामनवमी के जुलूस के नाम पर सांप्रदायिक अशांति पैदा करने की कथित कोशिश’ पर विधानसभा में होने वाली चर्चा को कार्यसूची से बाहर करने की मांग कर रहे थे.

इसके बाद नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता सहित सभी 4 बीजेपी विधायकों ओपी शर्मा, एम एस सिरसा और जगदीश प्रधान ने सदन से बर्हिगमन किया. करावल नगर से विधायक कपिल मिश्रा ने दिल्ली में सांप्रदायिक तनाव की किसी भी तरह की घटना नहीं होने के बावजूद इस मुद्दे पर चर्चा की प्रासंगिकता पर सवाल उठाया. सत्तारूढ़ आप विधायकों ने हालांकि इस पर चर्चा कराये जाने पर जोर दिया.

कपिल मिश्रा ने निर्धारित चर्चा को सदन की कार्यसूची से बाहर करने की लगातार मांग की वह विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल के आसन के पास पहुंच गये और सदन की कार्यसूची की एक प्रति फाड़ दी. इसके बाद गोयल ने उन्हें मार्शल के सहारे सदन से बाहर करने का निर्देश दिया. विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र शाहदरा में इस तरह की घटना हुई लेकिन दिल्ली पुलिस ने इस संबंध में अब तक कोई मामला दर्ज नहीं की है. (इनपुट-एजेंसी)