नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के मंत्री ने आरक्षण को लेकर हमला बोला है. कुछ महीने बाद मध्य प्रदेश में विधानसभा के चुनाव होने हैं. ऐसे में मंत्री के बयान पर विवाद हो सकता है. एक कार्यक्रम के दौरान मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि यदि योग्यता को दरनिकनार कर के अयोग्य लोगों का चयन किया जाएगा, यदी 90 प्रतिशत वालों को बैठा दिया जाएगा और 40 प्रतिशत वाले की नियुक्ति की जाएगी तो यह देश के लिए घातक होगा.

गौरतलब है कि मंत्री गोपाल भार्गव नरसिंहपुर में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि आजादी के समय हमारे समाज के एक चौथाई सांसद, विधायक और अधिकारी-कर्मचारी हुआ करते थे, लेकिन अब 10 फीसदी भी नहीं बचे. उन्होंने कहा कि आजादी के समय देश में अनीति का नहीं नीति का काम था. आरक्षण के नाम पर ब्राह्मण या किसी और समाज के साथ नहीं, बल्कि प्रतिभाओं के साथ मजाक हो रहा है.

भार्गव ने कहा कि 90 फीसदी वालों को घर बैठाकर 40 फीसदी वालों को आगे बढ़ाया जाएगा, तो देश पिछड़ जाएगा. वर्तमान में देश का यह हाल है कि हर पार्टी ब्राह्मण का समर्थन चाहती, पर ब्राह्मण को देना कुछ नहीं चाहती.इस कार्यक्रम में शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती, कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी, पदम श्री विजयदत्त श्रीधर सहित कई विधायक, जनप्रतिनिधि और ब्राह्मण सन्त मौजूद थे.

विवाद बढ़ता देख मंत्री गोपाल भार्गव ने सफाई देते हुए कहा कि परशुराम जयंती के मौके पर एक कार्यक्रम में दिए गए मेरे वक्तव्य को राजनीतिक कारणों से तोड़-मरोड़ कर कुछ नेताओं और समाचार माध्यमों द्वारा प्रस्तुत किया जा रहै है. मैं इस भ्रांति को दूर करते हुए यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि मैं संविधान परस्त आरक्षण व्यवस्था का घोर समर्थक हूं. मैंने अपने वक्तव्य में कहीं भी आरक्षण शब्द का उपयोग नहीं किया है.