अमृतसर: अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने विवादित फिल्म ‘नानक शाह फकीर’ के निर्माता हरिन्दर सिक्का को सिख पंथ से निकालने के फैसले की आज घोषणा की है. सिक्खों के प्रथम गुरू के जीवन पर आधारित फिल्म की रिलीज से एक दिन पहले पांचों तख्तों के जत्थेदारों की एक बैठक में यह फैसला लिया गया.

सिनेमाघरों से फिल्म को वापस लेने के आदेशों का अनुपालन करने से सिक्का के इनकार करने के बाद यह बैठक बुलाई गई थी. इसके बाद में उन्हें निकालने की घोषणा की गई. इससे पहले अकाल तख्त ने फिल्म की रिलीज पर पाबंदी लगा दी थी. गुरबचन सिंह ने दलील दी कि सिख गुरूओं को जीवित रूप में दिखाने की इजाजत नहीं दी जा सकती.

वहीं, शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा संचालित सभी संस्थाएं शुक्रवार को बंद रहेंगी. जानकारी के मुताबिक फिल्म की रिलीज का विरोध करने के लिए यह कदम उठाया गया है. बता दें कि गुरु नानक देव पर बनाई गई ‘नानक शाह फकीर फिल्म का विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है. 13 अप्रैल को बैसाखी के दिन रिलीज होने वाली फिल्म के विरोध में फरीदाबाद, सिरसा, यमुनानगर, करनाल सहित कई जिलों में सिख समुदायों द्वारा विरोध किया गया.

सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म पर रोक लगाने संबंधित मामले में सुनवाई से इंकार दिया है. इस फैसले के बाद लोग स्वयं फिल्म पर प्रतिबंध लगाने के लिए लोग सड़कों पर उतर आए और इसे बैन किए जाने की मांग की. सिखों ने चेतावनी दी कि फिल्म रिलीज हुई तो देश में विरोध का उग्र रूप दिखेगा और इसकी जिम्मेदार सरकार की होगी.

-इनपुट भाषा