नई दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी झूठ बोलकर समाज में ‘‘घृणा’’ फैला रहे हैं कि एससी-एसटी अत्याचार निवारक अधिनियम को खत्म किया जा रहा है. फिलहाल ओडिशा का दौरा कर रहे शाह ने अपने ट्वीट के साथ राहुल गांधी के भाषण का एक लघु वीडियो जारी किया जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष को रैली में यह कहते हुए सुना गया कि देश में दलितों एवं आदिवासियों के खिलाफ अत्याचार बढ़ रहे हैं और एससी-एसटी अत्याचार रोकथाम कानून को समाप्त किया जा रहा है. नरेन्द्र मोदी जी एक शब्द नहीं बोल रहे हैं.

अमित शाह ने पलटवार करते हुए कहा कि झूठ और केवल झूठ. देखें कि किस प्रकार से काल्पनिक तौर पर राहुल गांधी ने एससी-एसटी कानून को लेकर समाज में घृणा फैलाने का काम किया है.

उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय के हाल के एक फैसले पर दलित समूहों का कहना है कि इससे कानून कमजोर हुआ है. इसके कारण देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन देखने को मिला. विपक्षी दलों ने इस मुद्दे पर सरकार को घेरने का प्रयास किया है. इसके विरोध में आयोजित भारत बंद के दौरान देश के कई हिस्‍सों में हिंसक घटनाएं हुईं और कम से कम 10 लोगों की जान गई. कुछ जगहों पर कानून-व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए प्रशासन को कर्फ्यू लगाना पड़ा.

बहरहाल, सरकार ने शीर्ष न्यायालय के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह सहित बीजेपी के कई वरिष्‍ठ नेता यह स्‍पष्‍ट कर चुके हैं कि सरकार आरक्षण को खत्‍म नहीं कर रही. इसके बावजूद विरोध-प्रदर्शनों का दौर अब तक थमा नहीं है. भाजपा ने आरोप लगाया है कि विपक्षी दल इस संवेदनशील मुद्दे पर राजनीति कर रहे हैं.