विशाखापटनम के सांसद और वरिष्ठ बीजेपी नेता के हरी बाबू ने मंगलवार को आंध्र प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने अपने इस्तीफे की कॉपी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भेज दी है.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने बीजेपी के सूत्रों के मुताबिक लिखा है कि तेलुगु देशम पार्टी से विवाद के बाद पार्टी राज्य यूनिट में परिवर्तन करना चाहती थी. बीजेपी आंध्र प्रदेश को अब अपनी शक्तियों के आधार पर देखना चाहती है. इसके लिए उसने नई रणनीति तैयार की है.

सूत्रों के मुताबिक, एमएलसी सोमू वीरराजू, विधायक और पूर्व मंत्री पी मनीकायला राव, पूर्व कांग्रेस नेता कन्ना लक्ष्मीनारायण और यूपी सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे डी पुरंदारेश्वरी बीजेपी अध्यक्ष की लाइन में खड़े हैं. लक्ष्मीनारायण और पुरंदारेश्वरी कांग्रेस छोड़ कर बीजेपी में आए हैं.

बता दें कि साल 2014 का चुनाव टीडीपी के साथ गठबंधन करके लड़ा था. उसे विधानसभा में 9 सीट (4.13 प्रतिशत वोट) और लोकसभा में तीन सीट मिली थी.