नवादा. रामनवमी जुलूस के दौरान हुई हिंसा के बाद भी बिहार के नवादा में तनाव बना हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार को भी वहां कथित तौर पर एक मूर्ति के तोड़े जाने के बाद दो पक्ष आमने-सामने आ गए. मामला एनएच 31 के नजदीक बाबा ढाबा का है.

रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार को दो अलग-अलग समुदायों से जुड़े दो ग्रुप आमने-सामने आ गए और एक दूसरे पर पत्थरबाजी शुरू कर दी. इसकी सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासन के लोग मौके पर पहुंच गए और स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश की. विवाद को देखते हुए वहां भारी मात्रा में फोर्स को तैनात कर दिया गया है. फिलहाल वहां स्थिति नियंत्रण में है. नवादा के डीएम का कहना है कि यहां कुछ अराजकतत्वों द्वारा मुर्ति तोड़े जाने का मामला सामने आया है. इसके बाद दो समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए.

पिछले सप्ताह भी हुई हुई थी हिंसा
बता दें कि पिछले सप्ताह उपद्रवियों ने वहां 20 से ज्यादा दुकानों को आग के हवाले कर दिया था. वहीं, नवादीह कॉलोनी में निकले रामनवमी जुलूस में शामिल लोगों पर पत्थरबाजी की गई थी. इसके बाद पूरे इलाके में तनाव हो गया था. रिपोर्ट के मुताबिक, उपद्रवियों ने पुराने जीटी रोड पर स्थित जामा मस्जिद के पास भी 50 दुकानों में आग लगा दी थी. इस दौरान पत्थरबाजी में 60 लोग घायल हो गए थे, जिसमें 20 पुलिसकर्मी भी थे. स्थिति को कंट्रोल करने के लिए आस-पास के इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया था.

केंद्रीय मंत्री ने लगाया आरोप
केंद्रीय गृहराज्य मंत्री हंसराज अहीर ने रामनवमी पर हुए सांप्रदायिक हिंसा के लिए पश्चिम बंगाल और बिहार सरकार पर आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि ये राज्यों की जिम्मेदारी है कि वह वहां कानून व्यवस्था को मेंटेन करें. इसके एक हफ्ते पहले भागलपुर में भी एक जुलूस के दौरान सांप्रदायिक तनाव हो गया था. इस जुलूस का नेतृत्व केंद्रीय मंत्री अश्वीनी चौबे का बेटा अर्जित शास्वत कर रहा था.