नई दिल्ली। भारतीय सेना के अफसरों के हनीट्रैप में फंसने का सिलसिला थमता नहीं दिख रहा है. हाल ही में वायुसेना के एक अधिकारी के हनीट्रैप में फंसने का मामला पुराना भी नहीं पड़ा था कि अब थल सेना के एक अफसर को ऐसे ही मामले में हिरासत में लिया गया है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कर्नल रैंक के सेना अधिकारी को मध्य प्रदेश के जबलपुर में पकड़ा गया है. एजेंसी के मुताबिक ये ऑफिसर जबलपुर वर्कशॉप में तैनात है और इसे सेना के काउंटर इंटेलीजेंस विंग ने हिरासत में लिया है.

इलाहाबाद में सेना के प्रवक्ता विंग कमांडर अरविंद सिन्हा ने पीटीआई’ को बताया कि सेना मुख्यालय का दल जबलपुर से अधिकारी को कल रात अपने साथ लेकर गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है. क्या यह एक ‘हनी ट्रेप’ का मामला है, के सवाल पर सेना प्रवक्ता ने कहा कि इस सिलसिले में फिलहाल हम इससे अधिक कुछ भी बताने की स्थिति में नहीं हैं. सेना के दल द्वारा अधिकारी से सघन पूछताछ की जा रही है. दल द्वारा अधिकारी को साथ ले जाने के बाद उससे जबलपुर में पूछताछ की जा रही है या उसे कहीं अन्य स्थान पर ले जाया गया है, के सवाल पर सिन्हा ने कोई भी जानकारी देने से इंकार कर दिया.

ग्रुप कैप्टन मारवाह भी हो चुके हैं अरेस्ट

इसी तरह के एक मामले में 9 फरवरी को भारतीय वायुसेना के ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह पर आईएसआई एजेंट्स को खुफिया जानकारी देने का आरोप लगा था जिसके बाद 51 वर्षीय मारवाह को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार कर लिया. मारवाह पर आरोप है कि उन्होंने खुफिया दस्तावेजों की तस्वीरें क्लिक करके सोशल मीडिया के जरिए आईएसआई एजेंट्स को पाकिस्तान भेजी हैं. सूत्रों के अनुसार कुछ माह पहले आईएसआई के एक एजेंट ने लड़की बनकर मारवाह से संपर्क किया था.

ये भी पढ़ें- 3 भारतीय अफसरों को हनीट्रैप में फंसाने की कोशिश में ISI

आरोप है कि दोनों में फोन पर लगातार चैटिंग होती थी और दोनों एक दूसरे को अश्लील मैसेज भेजते थे. मारवाह को पूरी तरह अपने जाल में फंसाने के बाद आईएसआई एजेंट ने उनसे कई गोपनीय दस्तावेज की मांग की. आरोप है कि उन्होंने कुछ गोपनीय दस्तावेज उसे मुहैया भी करा दिए.

कुछ हफ्ते पहले एयरफोर्स के वरिष्ठ अधिकारी को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने आंतरिक जांच बैठा दी. जांच में मारवाह की जासूसी में संलिप्तता पाए जाने पर एयरफोर्स के वरिष्ठ अधिकारी ने दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से इसकी शिकायत की. पटनायक ने मामले की गंभीरता को देखते हुए स्पेशल सेल को इसकी जांच सौंप दी.