नई दिल्ली: केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली का अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानमें किडनी प्रत्यारोपण रद्द कर दिया गया है, क्योंकि डोनर की किडनी मैच नहीं कर पाई है. जेटली  किडनी ट्रांसप्‍लांट के लिए एम्स में तीन दिनों से सोमवार तक भर्ती रहे. अस्पताल के एक अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर बताया , “दाता की किडनी  जेटली के साथ मैच नहीं की, जिसके कारण ऑपरेशन नहीं किया जा सका.” उन्होंने कहा, “वह नए  डोनर के साथ संभवत: एक हफ्ते बाद अस्पताल वापस आ सकते हैं.”

जेटली को एम्स के कार्डियो-न्यूरो टॉवर में शुक्रवार को भर्ती कराया गया था. उन्हें किडनीदाता और खुद उनके बीच किडनी ट्रांसप्‍लांट के ऑपरेशन के लिए कागजी कार्रवाई पूरा करने के बाद भर्ती किया गया था. किडनी डोनर की पहचान उजागर नहीं की गई थी. दो दिन पहले ही उन्होंने किडनी दान करने के बाद किडनी प्रत्यारोपण को लेकर आधिकारिक दस्तावेजों को पूरा किया है. उनका अस्पताल के कार्डियो-न्यूरो टॉवर में इलाज किया जा रहा है, जो वीवीआईपी मरीजों के लिए अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त है. बता दें कि जेटली को शुक्रवार शाम अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

3 दिन तक डायलिसिस के बाद घर लौटे थे जेटली
केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में तीन दिनों तक डायलिसिस करवाने के बाद सोमवार को घर लौट आए थे. एम्स में उनकी किडनी प्रत्यारोपण सर्जरी जल्द ही होनेवाली है. अस्पताल के एक अधिकारी ने कहा था, जेटली दो दिनों की छुट्टी पर अस्पताल से घर गए हैं. उन्होंने बताया कि अस्पताल में उन्हें डायलिसिस पर रखा गया था और उनकी स्थिति सामान्य दिख रही है.

एम्‍स में इन विशेषज्ञों की देखरेख में जेटली
पिछले तीन दिनों में उनके कई परीक्षण किए गए, जो कि ऑपरेशन के लिए जरूरी थे. डॉ. वी.के. बंसल की अगुवाई में वरिष्ठ डॉक्टरों की टीम करेगी, जिसमें अपोलो अस्पताल के विशेषज्ञ और एम्स के निदेशक संदीप गुलेरिया भी शामिल हैं. अन्य डॉक्टरों में नेफ्रोलॉजिस्ट संदीप महाजन, एंडोक्रिनोलॉजिस्ट निखिल टंडन और कार्डियोलॉजिस्ट वी.के. बहल शामिल हैं. (इनपुट- एजेंसी)