नई दिल्ली. मोदी सरकार ने लाल बत्ती कल्चर का अंत कर दिया है. सरकार ने इमर्जेंसी सेवाओं के अतिरिक्त सभी गाड़ियों से लाल बत्ती हटाने का आदेश दिया है. ये आदेश प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और मुख्यमंत्रियों पर भी लागू होगा. केंद्र के आदेशों का अनुसरण करने में सबसे पहला नंबर मंत्री स्मृति ईरानी का रहा. ईरानी ने लाल बत्ती हटाकर गाड़ी की फोटो ट्वीट की.

पढ़ें- अब तक इन मुख्यमंत्री और मंत्रियों ने हटाई अपनी गाड़ी से लाल बत्ती

हालांकि, लाल बत्ती नेताओं को मिलने वाली सुविधा का एकमात्र प्रतीक नहीं है. यहां देखिए बाकी सुविधाओं की लिस्टः

– हमारे चुने गए प्रतिनिधियों की तनख्वाह टैक्स के दायरे से बाहर होती है.
– उनके घर के खर्च जैसे लॉन्ड्री का बिल सरकार चुकाती है.
– वीआईपी स्टेटस वाले प्रतिनिधि की सुरक्षा के लिए लगभग 17 पुलिसकर्मी तैनात रहते हैं.
– वीवीआईपी को सुरक्षा जांच के लिए एयरपोर्ट पर रुकना नहीं पड़ता है.
– हर वीआईपी को 50 हजार यूनिट मुफ्त बिजली और पानी दिया जाता है.
– वो ऐसे घर में रहते हैं जो फर्निश्ड होता है और उसका रखरखाव सरकार करती है.
– सांसद और विधायक संसद और विधानसभा की कैंटीन में सब्सिडाइज्ड भोजन का आनंद उठाते हैं.