नई दिल्ली: राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने रामनवमी जुलूस के दौरान आसनसोल- रानीगंज में हिंसा के शिकार लोगों की ‘स्वतंत्रता और गरिमा की रक्षा करने में’ कानून प्रवर्तन एजेंसियों की कथित विफलता को लेकर सोमवार को पश्चिम बंगाल सरकार और राज्य के पुलिस प्रमुख को एक नोटिस भेजा है.

वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि एनएचआरसी ने स्थिति पर गंभीर चिंता जताते हुए राज्य के मुख्य सचिव, गृह सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस भेजकर उनसे चार सप्ताह में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.

एनएचआरसी ने एक बयान में अपने महानिदेशक (अन्वेषण) को एसएसपी या उससे उपर के स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में एक टीम का गठन करने के लिए भी कहा है. एनएचआरसी ने कहा है कि यह टीम आसनसोल-रानीगंज के हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में मौके पर जाकर जांच करे या वास्तविक स्थिति का आकलन करने के लिए जांच करे और तीन सप्ताह के भीतर एक रिपोर्ट सौंपे. उल्लेखनीय है कि आसनसोल-रानीगंज में रामनवमी समारोह के दौरान दो समूहों में हुई हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी. हिंसा में दो पुलिस अधिकारी घायल हो गये थे. (इनपुट-भाषा)