चेन्नई। एआईडीएमके की नेता शशिकला की जेल अधिकारियों से सांठ-गांठ का खुलासा करने वाली कर्नाटक की डीआईजी डी रूपा का तबादला हो गया है. उन्हें अब यातायात विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है. बेंगलुरु में डीआईजी (जेल) रहते हुए रूपा ने शशिकला को मिल रहे वीआईपी ट्रीटमेंट की पोल खोली थी. उन्होंने अपने बॉस के सत्यनारायण राव पर काम में बाधा डालने का भी आरोप भी लगाया. अब उन्‍हें ट्रैफिक विभाग में भेज दिया गया है.

यह भी पढ़ेंः

डी रूपा ने पुलिस महानिदेशक (जेल) एच एस सत्यनारायण राव को एक रिपोर्ट सौंपी, जिसमें आरोप लगाए गए थे कि बेंगलुरु की सेंट्रल जेल में बंद एआईएडीएमके प्रमुख शशिकला को वीवीआईपी ट्रीटमेंट मिल रहा है. उनके लिए एक विशेष रसोईघर तैयार किया गया है और इस तरह की अटकलें लगायी जा रही हैं कि इस सुविधा को देने के बदले वरिष्ठ जेल अधिकारियों ने दो करोड़ रुपए की रिश्वत ली.

डी रूपा के ट्रांसफर पर कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया ने कहा कि यह प्रशासनिक प्रक्रिया का हिस्सा है. वहीं मीडिया के सवालों से बचते हुए उन्होंने कहा कि मीडिया को सबकुछ बताना जरूरी नहीं है.