नई दिल्लीः अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम (एससी/एसटी एक्ट) को लेकर आए सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले के विरोध में सोमवार को दलित और आदिवासी संगठनों की ओर से बुलाए बंद के दौरान देश के कोने-कोने से हिंसा भड़कने की रिपोर्ट आई है. 10 से ज्यादा राज्यों में हिंसा भड़कने की खबर है. मध्य प्रदेश के ग्वालियर और मुरैना में भड़की हिंसा में कम से कम चार लोगों को मौत हो गई. वहीं, राजस्थान के अलवर और यूपी के मुजफ्फरनगर में एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई. बिहार के वैशाली में प्रदर्शन के कारण लगे जाम में एंबुलेंस के फंसने से एक बच्चे की मौत हो गई. मध्यप्रदेश के मुरैना में गोली लगने से एक युवक की मौत हुई. बताया जा रहा है कि युवक प्रदर्शन में शामिल नहीं था. वह अपने छत पर खड़ा था. फायरिंग में उसकी मौत हो गई. क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है. प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए पुलिस को बल प्रयोग के साथ आंसू गैस के गोले भी छोड़ने पड़े. आईजी (लॉ एंड ऑर्डर) मकरंद देउस्कर ने बताया कि ग्वालियर और मुरैना में विरोध प्रदर्शन के दौरान चार लोगों की मौत हुई है.

पुलिस ने किसी तरह प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा तो मुरैना रेलवे स्टेशन पर उपद्रव शुरू हो गया. बंद समर्थकों ने यहां पटरियों पर डेरा जमा लिया, जिसके बाद ट्रेनों की आवाजाही थम गई है. रेलवे स्टेशन पर उपद्रवियों ने दहशत फैलाने के लिए हवाई फायरिंग भी कर दी. रेलवे स्टेशन पर पुलिस और उपद्रवी आमने-सामने हो गए है. ग्वालियर के चार थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार सोमवार तड़के ओडिशा के संभलपुर में रेल पटरियों पर लोगों के जमा होने और ट्रेनों की आवाजाही रोकने की खबर है. वहीं, बिहार और उत्तर प्रदेश में भी कई जगहों पर ट्रेन सेवाएं बाधित करने की खबरें आई हैं.

यह भी पढ़ेंः LIVE: एससी/एसटी एक्ट को लेकर भारत बंद, एमपी में हिंसक प्रदर्शन, युवक की गोली लगने से मौत

यूपीः मेरठ और आगरा में दिखा उग्र विरोध
यूपी के आगरा और मेरठ में दलित संगठनों के भारत बंद का व्यापक असर देखने को मिला है. मुजफ्फरनगर में प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा के कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई. इससे पहले विभिन्न संगठनों से जुड़े प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली-देहरादून राजमार्ग को पूरी तरह से बाधित कर दिया. प्रदर्शनकारियों ने दो बसों में भी आग लगा दी. इसके अलावा प्रदर्शनकारियों ने मेरठ में कंकरखेड़ा थाने के शोभापुर पुलिस स्टेशन में आग लगा दी है. आगरा में भी भारी संख्या में प्रदर्शनकारियों ने सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन किया. भारत बंद के मद्देनजर प्रदेश के सभी जिलों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है. राज्य के गृह विभाग के प्रमुख सचिव ने सभी जिलों के डीएम और एसपी को इस संबंध में विशेष आदेश जारी किया है. साथ ही आगजनी व तोड़फोड़ से निपटने में सख्ती बरतने को कहा है. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. उन्होंने कहा कि एससी एसटी के विकास के लिए राज्य सरकार और केंद्र दोनों ही प्रतिबद्ध हैं. मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे कानून व्यवस्था को हाथ में न लें. अगर कोई समस्या है तो सरकार के सामने रखें. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के कई शहरों में प्रदर्शन के हिंसक होने की खबर आ रही है.

पंजाब में परीक्षा रद्द, बस एवं मोबाइल सेवाएं निलंबित
भारत बंद के मद्देनजर पंजाब में सोमवार को 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द कर दी गईं. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने पंजाब शिक्षा निदेशालय की मांग पर रविवार देर रात ही इसकी आधिकारिक घोषणा कर दी थी. सीबीएसई का कहना है कि सुरक्षा के मद्देनजर बोर्ड ने यह फैसला लिया है. दोनों पेपर की तिथि की घोषणा बाद में की जाएगी. सोमवार को 10वीं की संस्कृत और 12वीं की हिंदी इलेक्टिव की परीक्षा थी. इससे पहले प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि भारत बंद को देखते हुए राज्य में सार्वजनिक परिवहन की बसों की सेवाएं निलंबित रखने का फैसला किया है. बंद के कारण राज्य के कई रूटों पर आज पीआरटीसी, पंजाब रोडवेज और पनबस की बसें नहीं चलीं. राज्य सरकार ने एहतियात बरतते हुए मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को भी निलंबित रखने का आदेश दिया है.

बिहार में भारत बंद का व्यापक असर
भारत बंद का बिहार में भी व्यापक असर दिखा. प्रदेश की राजधानी पटना को उत्तर बिहार से जोड़ने वाले गांधी सेतु मार्ग पर हाजीपुर के पासवान चौक के पास जाम के कारण सड़क पर गाड़ियों की कतार लगी हुई है. खबर के मुताबिक बंदी के दौरान यातायात व्यवस्था पूरी तरह ठप कर दी गई है. दरभंगा के लहेरियासराय स्टेशन पर दरभंगा-पटना इंटरसिटी ट्रेन को रोकने और प्रदर्शनकारियों द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में नारेबाजी की खबर है. दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड पर ट्रेनों का आवागमन ठप है. राजधानी पटना के पास स्थित बाढ़ में बंद के दौरान अथमलगोला स्टेशन रेलवे लाइन पर दलित सेना और भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने पत्थर का स्लीपर रख कर विरोध जताया. अरवल में दलित संगठनों समेत राजद और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने पटना-औरंगाबाद रोड जाम कर प्रदर्शन किया. नवादा में भी बंद समर्थकों ने गया-जमालपुर पैसेंजर ट्रेन रोककर रेल यातायात बाधित करने की कोशिश की.

वहीं झारखंड के रांची में भी पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प देखने को मिली. प्रदर्शन कर रही महिलाएं पुलिस से भिड़ गईं. न्यूज एजेंसी एएनआई के सामने आए वीडियो में देखा जा सकता है कि पत्थरबाजी कर रही महिलाओं पर पुलिस लाठियां बरसा रही है.

कांग्रेस ने किया बंद का समर्थन, गृहमंत्री ने शांति बनाए रखने की अपील
भारत बंद का कांग्रेस ने भी समर्थन किया है. राहुल गांधी ने ट्वीट किया, दलितों को भारतीय समाज के सबसे निचले पायदान पर रखना RSS/BJP के DNA में है, जो इस सोच को चुनौती देता है उसे वे हिंसा से दबाते हैं. हजारों दलित भाई-बहन आज सड़कों पर उतरकर मोदी सरकार से अपने अधिकारों की रक्षा की मांग कर रहे हैं. हम उनको सलाम करते हैं. इधर, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह का कहना है कि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन दायर किया है. मैं राजनीतिक पार्टियों और प्रदर्शनकारियों से अपील करता हूं शांति बनाए रखें. SC/ST एक्ट पर बदलाव के मुद्दे पर रामविलास पासवान बोले- दलितों का गुस्सा स्वाभाविक हो सकता है, लेकिन पार्टियां इसमें राजनीतिक रोटी क्यों सेंक रही हैं. कांग्रेस ने बाबा साहब अंबेडकर के नाम पर क्या किया, संसद के सेंट्रल हॉल में कांग्रेस ने अंबेडकर का पोर्ट्रेट तक नहीं लगने दिया था. उन्हें भारत रत्न नहीं दिया गया था. हमने उन्हें भारत रत्न सम्मान प्रदान करने का फैसला लिया. 14 अप्रैल को उनके जन्मदिन की छुट्टी हमने घोषित की.