नई दिल्ली| राष्ट्रपति चुनाव के एक दिन पहले आज रविवार को सभी राजनीतिक दलों में बैठकों का सिलसिला जारी है. बिहार के वर्तमान राजनीतिक हालात को देखते हुए माना जा रहा है कि राष्ट्रपति चुनाव के नाम पर अलग-अलग राजनीतिक दलों की होने वाली बैठक में ज्यादा चर्चा वर्तमान राजनीतिक हालात पर ही होगी क्योंकि नीतीश पर तेजस्वी को मंत्रिमंडल से निकालने या आरजेडी से गठबंधन खत्म करने का दबाव बढ़ता ही जा रहा है. खासकर ऐसे समय में जब नीतीश की तरफ से तेजस्वी को सबूत के साथ सफाई देने के लिए दिया गया समय खत्म हो चुका है.

नीतीश कुमार के घर हुई जेडीयू विधायकों की बैठक में सिर्फ़ कल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर ही चर्चा हुई. अटकल थी कि इस बैठक में जेडीयू की तरफ़ से कुछ कड़े फ़ैसले लिए जा सकते हैं लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

वहीं आरजेडी विधायकों की एक बैठक लालू यादव के घर पर हुई. आरजेडी ने कहा है कि वो अपने पुराने फ़ैसले पर कायम हैं जिसमें उन्होंने कहा था कि तेजस्वी इस्तीफा नही देंगे. हांलाकि इस बैठक का मकसद राष्ट्रपति चुनाव बताया गया.

कांग्रेस विधायक दल की बैठक भी होनी है औऱ बाद में आरजेडी और कांग्रेस विधायकों की एक संयुक्त बैठक होगी. कुल मिलाकर बिहार में बैठकों का दौर जारी है.

बता दें कि कथित बेनामी संपत्ति मामले में तेजस्वी के खिलाफ सीबीआई ने एफआईआर दर्ज की थी. इस आरोप के बाद जेडीयू ने जनता के सामने सफाई देने या फिर इस्तीफा देने के लिए आरजेडी और तेजस्वी पर दबाव बढ़ा दिया था. नीतीश ने तेजस्वी यादव को सफाई देने के लिए शनिवार शाम तक का समय दिया था, लेकिन उन्होंने न तो सफाई दी और न ही इस्तीफा.

इसी को देखते हुए ऐसे कयास लगाए जा रहे थे रविवार को होने वाली बैठक में नीतीश कुमार कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं लेकिन ऐसा नहीं हुआ. जेडीयू की ओर से अभी तेजस्वी पर कोई फैसला नहीं हुआ.