मुंबई/लखनऊ: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह छह अप्रैल को पार्टी के 38 वें स्थापना दिवस के मौके पर मुंबई में एक रैली को संबोधित करेंगे. वहीं, उत्‍तर प्रदेश में आयोजित समारोह में राज्‍य की जनता से बूथ स्तर तक सीधा संवाद करके राज्य और केंद्र सरकार की खूबियां गिनाएगी.

रैैैैली के साथ 2019 के चुनावी अभियान की शुरुआत 
अमित शाह की रैली में महाराष्ट्र के विभिन्न भागों से पार्टी कार्यकर्ताओं के शामिल होने की संभावना है. इसका आयोजन उपनगर बांद्रा के बांद्रा कुर्ला परिसर के एमएमआरडीए ग्राउंड में होना है. इसे 2019 के आम चुनावों के लिए पार्टी के अभियान की औपचारिक शुरुआत के रूप में देखा जा रहा है.भाजपा की प्रदेश इकाई प्रमुख रावसाहेब दानवे ने गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि शाह के अलावा महाराष्ट्र से आने वाले केन्द्रीय मंत्री तथा अन्य भाजपा नेता सुबह साढे ग्यारह बजे आयोजित समारोह में लोगों को संबोधित करेंगे.

1980 में मुंबई में ही हुआ था पहला अधिवेशन
भाजपा के लिए मुंबई को लेकर एक भावनात्मक संबंध है क्योंकि पार्टी के गठन के बाद इसका पहला सम्मेलन 1980 में मुंबई में ही हुआ था. दानवे ने कहा,‘‘ भाजपा का इरादा राज्य में एक करोड़ सदस्य बनाने का है. हमारी 25 युवाओं की एक टीम है जिसमें महिलाएं, दलित, ओबीसी और आदिवासी शामिल हैं और जो राज्य के हर बूथ पर मौजूद रहेंगे. विधानसभा की हर सीट पर 315 बूथ हैं. यानी हर सीट पर बूथस्तर के कार्यकर्ताओं की कुल संख्या7500 है.’’ महाराष्ट्र में विधानसभा की कुल 288 सीटें हैं. दानवे ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं को ट्रेनों, बसों और जीप से मुंबई लाने की व्यवस्था की गई है.

वर्ष 1980 के सम्मेलन का जिक्र करते हुए दानवे ने कहा कि इसमें अटल बिहारी वाजपेयी को अगला प्रधानमंत्री बनाने का आह्वान किया गया था और इसे सच होने में कुछ वर्ष लगे. यह पूछे जाने पर कि क्या इस रैली को भाजपा के चुनावी अभियान की औपचारिक शुरुआत के रूप में देखा जा सकता है, दानवे ने जवाब दिया, ‘‘ हां, आप यह कह सकते हैं.’’

यह भी पढ़ें : शिवराज की सियासी चालः सरकार के खिलाफ रथ यात्रा निकालने वाले 5 संतों को बनाया राज्य मंत्री

लखनऊ में मौजूद रहेंगी निर्मला सीतारमण
दूसरी ओर, उत्तर प्रदेश में हाल ही में लोकसभा उपचुनाव में मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री की प्रतिष्ठित सीटें गंवाने वाली भारतीय जनता पार्टी अपने स्थापना दिवस के मौके पर शुक्रवार को राज्‍य की जनता से सीधा संवाद करेगी. लखनऊ में होने वाले मुख्य समारोह में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के शामिल होने का कार्यक्रम है.

यह भी पढ़ें : मां के शव को तीन साल रेफ्रिजरेटर में रख अंगूठा लगवा तीन साल लेता रहा पेंशन

हर बूथ पर होंगे कार्यक्रम
भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डा. चंद्रमोहन ने कहा, ‘पूरे प्रदेश में पार्टी सभी बूथों और सेक्टरों में स्थापना दिवस मनाएगी. जनता से सीधा संवाद किया जाएगा. उन्हें पार्टी के इतिहास और विचारों से अवगत कराया जाएगा.’ चंद्रमोहन ने कहा कि पूरे प्रदेश में केन्द्र सरकार के मंत्री, प्रदेश सरकार के मंत्री, सांसद, विधायक, भाजपा के नेता एवं कार्यकर्ता स्थापना दिवस समारोह में सम्मिलित होंगे. उन्होंने कहा, ‘हम प्रदेश में योगी सरकार की एक वर्ष की उपलब्धियों को जन जन तक पहुंचाएंगे. केन्द्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के रूप में देश और प्रदेश को नयी उंचाइयों पर ले जाने वाला शानदार नेतृत्व मिला है.’ चंद्रमोहन ने कहा कि सबका साथ सबका विकास भाजपा का मंत्र है और आज की परिस्थिति में भाजपा के साथ अधिक से अधिक लोग जुडें, हमारा यही प्रयास होगा.

यह भी पढ़ें : ‘ओला’ ने शुरू की ट्रैवल इंश्‍योरेंस की सुविधा, एक रुपए में मिलेगा 5 लाख रुपए तक का कवरेज

केंद्र और राज्‍य सरकार की योजनाओं का प्रचार
सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की योजनाओं और कार्यक्रमों का प्रचार प्रसार भी स्थापना दिवस पर जोर शोर से किया जाएगा. चंद्रमोहन ने बताया कि सेक्टर प्रभारी बनाए गए प्रदेश पदाधिकारी अपने नियत क्षेत्रों में प्रवास कर भाजपा की गौरवगाथा का बयान करेंगे. जिलों के प्रभारी बनाए गए मंत्री अपने-अपने जिलों में कार्यक्रमों में शामिल होंगे. भाजपा के सफर को लेकर पर्चे भी बांटे जाएंगे. सभी कार्यक्रमों का समन्वय भाजपा के प्रदेश मुख्यालय से होगा. उन्होंने कहा, ‘भाजपा सरकार उत्तर प्रदेश में सुशासन और स्वराज के संकल्प को मूर्तरूप देने के लिए प्रतिपल कार्यरत है. स्वच्छता, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार, कृषि, महिला विकास, ग्राम विकास, शहरी विकास, उर्जा विकास जैसे क्षेत्रों में प्रभावी निर्णय लेकर त्वरित गति से कार्य करने की नयी कार्य संस्कृति का आविर्भाव योगी सरकार ने किया है.’ प्रवक्ता ने कहा कि प्रशासन की जवाबदेही को व्यापकता एवं प्रभावशीलता देने के लिए जिलेवार प्रभारी मंत्री नियुक्त कर संगठन एवं शासन के मध्य समन्वय सुनिश्चित करने की व्यवस्था की गई है.