न्यूयॉर्क. भारतीय जनता नेता सुब्रमण्यम स्वामी का दावा है कि उनकी पार्टी की 2019 के आम चुनाव में बहुमत पाने की पूरी तैयारी है और अपने दूसरे कार्यकाल में वह बचे-खुचे भ्रष्टाचार को भी खत्म कर देगी. दक्षिण एशिया बिजनेस एसोसिएशन द्वारा कोलंबिया बिजनेस स्कूल में आयोजित 14 वीं सालाना इंडिया बिजनेस कॉन्फ्रेंस में अपने संबोधन में स्वामी ने कहा कि भाजपा अपने दूसरे कार्यकाल में मजबूत और एकजुट भारत का निर्माण करेगी.

स्वामी ने पीटीआई-भाषा से कहा, 2019 में बहुमत पाने की हमारी पूरी तैयारी है. हम सत्ता में तीन कारणों से आए हैं – पहला, नरेंद्र मोदी की सुशासन की छवि , दूसरा भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई और तीसरा, लोगों खासकर हिंदुओं को जात-पात से ऊपर उठकर ऐसी पार्टी को वोट देने के लिए प्रेरित करना जो हिंदुओं के हितों की रक्षा करे.

अपनी ही पार्टी पर सुब्रमण्यम स्वामी का हमला, बोले- एयर इंडिया का विनिवेश संभवत: एक और घोटाला होने जा रहा है

अपनी ही पार्टी पर सुब्रमण्यम स्वामी का हमला, बोले- एयर इंडिया का विनिवेश संभवत: एक और घोटाला होने जा रहा है

उन्होंने कहा कि 2019 के आम चुनाव की तैयारी में भाजपा, बीते पांच साल में जिस भ्रष्टाचार को दूर नहीं कर पाए , उसका सफाया करेंगे और मजबूत और एकजुट भारत बनाना चाहते हैं . हम अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं हैं, इन वादों के साथ प्रचार करेगी. इस सम्मेलन में छात्र , शिक्षाविद , उद्यमी और अधिकारी शामिल हुए. इसमें स्वामी ने भारत के राजनीतिक और आर्थिक परिदृश्य के बारे में विस्तार से बात की.

उन्होंने यह स्वीकार किया कि भाजपा सरकार का आर्थिक मोर्चे पर प्रदर्शन सुशासन के उस वादे से अब भी दूर है जो उसने सत्ता में आने पर साल 2014 में किया था. यही नहीं , नोटबंदी और माल एवं सेवाकर ( जीएसटी ) के कारण स्थिति और जटिल हो गई. स्वामी ने नोटबंदी को विफल बताया और कहा कि जनता ने इस पर आपत्ति जाहिर नहीं की क्योंकि उन्हें ऐसा लगा कि इसके जरिए अमीर लोगों को कानून के दायरे में लाया गया.

उन्होंने कहा, फिलहाल तो जीएसटी एक दु:स्वप्न है. इसका अनुपालन बहुत कम हो रहा है. यह विफल है. हमें यह स्वीकार करना होगा. कारोबारियों के बीच निश्चित रूप से यह भाव है कि यह कर आतंकवाद है और इसे सही करने की जरूरत है. प्रमुख बैंकों में कई करोड़ों के घोटाले के बारे में स्वामी ने कहा कि इसकी वजह नेताओं की कारोबारियों से सांठगांठ है.

स्वामी ने कहा , यह मूल रूप से भ्रष्टाचार का मुद्दा है. मेरे खयाल से बैंक के बाबू को पकड़ने, उसके खिलाफ मामला चलाने के बजाए हमें उच्च स्तर के लोगों को पकड़ने पर ध्यान देना चाहिए. इससे भ्रष्टाचार दूर होता जाएगा.