नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने बुधवार को राहुल गांधी से माफी की मांग की और उनसे आग्रह किया कि राजनीतिक परामर्श फर्म कैम्ब्रिज एनालिटिका (सीए) पर डेटा चोरी के आरोपों के मद्देनजर मतदाताओं बहकाया न जाए और न तो समाज को बांटने का काम किया जाए. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट किया, “चूंकि अब चुनावों में धांधली करने में कैम्ब्रिज एनालिटिका की भूमिका स्पष्ट है और फेसबुक ने इसे रोकने और भारत के चुनावों की ईमानदारी बनाए रखने का आश्वासन दिया है, लिहाजा ईमानदारी का तकाजा यह है कि राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए और भविष्य में मतदाताओं को न बहकाने और समाज को नहीं बांटने का वादा करना चाहिए.”

रविशंकर प्रसाद की यह टिप्पणी फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग द्वारा मंगलवार को अमेरिकी कांग्रेस के समक्ष यह स्वीकार करने के बाद आई है कि सीए ने अनुचित तरीके से डेटा में सेंधमारी की और उन्होंने यह सुनिश्चित करने का वादा किया कि 2018 में दुनियाभर में होने वाले चुनावों में कोई भी दखल नहीं देगा. इससे पहले आए एक वीडियो में सीए के निलंबित सीईओ अलेक्जेंडर निक्स के कार्यालय में कांग्रेस पार्टी का पोस्टर नजर आ रहा है. यह बीबीसी के लिए बनी वृत्तचित्र श्रृंखला का हिस्सा है, जो 2017 में रिलीज हुआ.

मुखबिर क्रिस्टोफर वाइली ने ब्रिटिश सांसदों के सामने गवाही में खुलासा किया कि सीए ने बड़े पैमाने पर भारत में काम किया और उन्हें यकीन है कि कांग्रेस कंपनी के ग्राहकों में से एक थी. जुकरबर्ग ने मंगलवार को स्वीकार किया कि कंपनी ने दूसरों को नुकसान पहुंचाने के मकसद से किए जा रहे प्लेटफॉर्म के इस्तेमाल को रोकने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाए. फेसबुक के सीईओ ने कहा कि हम जो अब जानते हैं, वह यह है कि कैम्ब्रिज एनालिटिका ने इसे खरीदकर अनुचित तरीके से जानकारी प्राप्त की. हमने जब पहली बार कैमिब्रज एनालिटिका से संपर्क किया, उन लोगों ने हमें बताया कि उन्होंने डेटा डिलीट कर दिया है. (इनपुट-एजेंसी)