नई दिल्ली. कर्नल की पत्नी से अवैध संबंध रखने पर ब्रिगेडियर रैंक के अफसर को सजा मिली है. सेना में जनरल कोर्ट मार्शल (जीसीएम) की कार्रवाई करते हुए ब्रिगेडियर को सजा सुनाई है. 4 सालों तक आरोपी ब्रिगेडियर का प्रमोशन रोक दिया गया है. ब्रिगेडियर को कड़ी फटकार भी झेलनी पड़ी है. कोर्ट के आदेश के मुताबिक आरोपी ब्रिगेडियर को अपनी वरिष्ठता से भी हाथ धोना पड़ा है.

इस साल मई में कोर्ट ने पश्चिम बंगाल के बिनागुरी में इस मामले की सुनवाई शुरू की थी. इसकी अध्यक्षता माउंटेन डिविजन के एक जनरल ऑफिसर कमांडिंग कर रहे थे. मिलिटरी ट्रायल में उस दौरान ब्रिगेडियर रैंक के 6 अन्य अफसर भी मौजूद थे. उसी में से एक आरोपी ब्रिगेडियर भी था. ये ब्रिगेडियर सिक्किम बिग्रेड की कमान संभाल रहा था और उसकी तैनाती माउंटेन डिविजन में ही थी.

सेना के सूत्रों ने इंडियन एक्सप्रेस को इस मामले में बताया कि आरोपी अफसर ने अपने खिलाफ कोर्ट में आरोपों को स्वीकार किया था, जिसकी वजह से उसे यह नर्म सजा दी गई. वहीं, सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस तरह के मामलों में आरोपी को पांच साल की सजा सुनाई जाती है. मगर गलती कबूलना ही मुख्य कारण था, जिसके चलते आरोपी ब्रिगेडियर को चार सालों की सजा दी गई.