नई दिल्लीः कावेरी जल बंटवारे मामले में सुप्रीम कोर्ट तीन मई को सुनवाई करेगा. सोमवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने केंद्र से कहा कि कावेरी प्रबंधन योजना का मसौदा तैयार करके उसे तीन मई से पहले पेश करे. साथ ही कोर्ट ने तमिलनाडु , कर्नाटक अैर अन्य दावेदारों को राज्यों में शांति बनाए रखने का निर्देश दिया.प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा , न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने कहा कि उसने तमिलनाडु , कर्नाटक , केरल और पुडुचेरी के बीच जल बंटवारे के मामले में फैसला करते हुए कावेरी जल विवाद न्यायाधिकरण के अवॉर्ड पर विचार किया था.

पीठ ने कहा कि सभी पक्षकारों को उसके फैसले का अनुपालन करना होगा. कोर्ट ने कहा कि उसके द्वारा योजना के प्रारूप का अवलोकन करने और कावेरी जल के उचित तरीके से विचरण को अंतिम रूप देने तक प्राधिकारियों को शांति सुनिश्चित करनी होगी.

शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में केंद्र से कहा था कि वह दशकों पुराने कावेरी जल विवाद पर दी गई व्यवस्था का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए एक योजना तैयार करे. न्यायालय ने कावेरी जल विवाद न्यायाधिकरण के 2007 के फैसले में सुधार करते हुए स्पष्ट किया था कि वह किसी भी आधार पर इसकी समय सीमा नहीं बढ़ाएगा.

शीर्ष अदालत ने 16 फरवरी को कावेरी जल में कर्नाटक की हिस्सेदारी 14.75 टीएमसी फुट बढ़ा दी थी और तमिलनाडु का हिस्सा कम कर दिया था जबकि इसकी भरपाई के लिए उसे कावेरी तट से 10 टीएमसी फुट भूजल निकालने की अनुमति प्रदान की थी. न्यायालय ने कहा था कि पेय जल के मुद्दे को उच्च पायदान पर रखना होगा.

शीर्ष अदालत के इस फैसले के साथ ही तमिलनाडु , कर्नाटक , केरल और पुडुचेरी को कुल 740 टीएमसी फुट जल में से हर साल क्रमश : 404.25 टीएमसी फुट , 284.75 टीएमसीफुट , 30 टीएमसी फुट और सात टीएमसी फुट जल मिलेगा.

गौरतलब है कि रविवार को चेन्नई में कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन की मांग को लेकर राज्य भर में जारी विरोध प्रदर्शन में शामिल होते हुए तमिल सुपरस्टार रजनीकांत , अभिनेता कमल हासन और विजय सहित कई अन्य अभिनेताओं एवं फिल्मी हस्तियों ने एक मौन प्रदर्शन में शिरकत की.

तमिल फिल्म प्रोड्यूसर्स काउंसिल , साउथ इंडियन आर्टिस्ट एसोसिएशन ( एसआईएए ), फिल्म इंम्प्लाइज फेडरेशन ऑफ साउथ इंडिया और डिस्ट्रीब्यूटर्स एसोसिएशन ने वेल्लुवर कोट्टम इलाके में मौन प्रदर्शन करने की घोषणा की थी. एसआईएए अध्यक्ष और अभिनेता नसीर , अभिनेता धनुष और सत्यराज , निर्देशक शंकर और विक्रमन तथा अभिनेता – निर्देशक एस ए चंद्रशेखर ने भी प्रदर्शन में हिस्सा लिया.