नई दिल्ली। पेपर लीक को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड( सीबीएसई) ने सोमवार कूट भाषा में प्रश्न पत्र की व्यवस्था के जरिए लीक की समस्या को दूर करने का प्रयास किया. इन प्रश्नपत्रों का मुद्रण स्कूलों द्वारा कराया जाएगा. प्रायोगिक तौर पर आज इस योजना को अफरातफरी में लागू किया गया लेकिन प्रारंभिक तौर पर इसके क्रियान्वयन में कई तरह की दिक्कतें पेश आईं.

सीबीएसई ने शनिवार को दिल्ली के हर परीक्षा केंद्र को कुछ गोपनीय दिशा-निर्देश भेजे थे. ये निर्देश नयी व्यवस्था को लागू करने से जुड़ा था. नोट में कहा गया है, हाल के घटनाक्रमों के परिप्रेक्ष्य में सीबीएसई ने परीक्षा शुरू होने से ठीक पहले सभी परीक्षा केंद्रों को कूट भाषा में प्रश्नपत्र उपलब्ध कराने का तंत्र विकसित किया है.

CBSE पेपर लीक: शिक्षा विभाग ने एक अधिकारी को किया सस्पेंड, तीन टीचर गिरफ्तार

CBSE पेपर लीक: शिक्षा विभाग ने एक अधिकारी को किया सस्पेंड, तीन टीचर गिरफ्तार

बोर्ड द्वारा केंद्रों को भेजे गए निर्देशों में कंप्यूटरों और प्रिंटरों को लगाने के लिए सुरक्षित कमरे की पहचान करने को भी कहा गया है. साथ ही अधिक गति की इंटरनेट सेवा को भी सुनिश्चित करने को कहा गया है. सभी कंप्यूटर शिक्षकों/ स्टाफ को परीक्षा के दिन सुबह साढ़े सात बजे तक परीक्षा केंद्रों पर पहुंचने को कहा गया है ताकि वे प्रश्नपत्रों को डाउनलोड कर उन्हें मुद्रित कर सकें. स्कूल को प्रति उम्मीदवार के हिसाब से ए4 आकार के कम- से- कम दस पृष्ठों की व्यवस्था करने को भी कहा गया.

नोट में कहा गया है, परीक्षा के दिन प्रश्नपत्र को सीबीएसई वेबसाइट पर उपलब्ध कराया जाएगा. पंजीकरण के लिए इस्तेमाल में लाए गए आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल किया जाता है. प्रश्नपत्रों के जिप फाइल को डाउनलोड करने के बाद उन्हें खोलने के लिए परीक्षा केंद्रों को क्षेत्रीय कार्यालय की ओर से कुछ मिनट पहले या उसी समय पासवर्ड उपलब्ध कराया जाएगा. इसके बाद वे उस फाइल को एक्स्ट्रैक्ट कर पाएंगे.

स्कूलों को कल शाम चार बजे तक प्रिंटरों, कंप्यूटरों की संख्या, कंप्यूटर स्टाफ या प्रभारी शिक्षक की संख्या संबंधी विवरण भेजने को कहा गया था. बोर्ड ने केंद्र अधीक्षकों से व्यक्तिगत रूप से व्यवस्था की निगरानी करने और पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है.

तीन गिरफ्तार

इस मामले की जांच एसआईटी कर रही है. रविवार को दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने दो शिक्षकों और एक ट्यूशन टीचर को पुलिस कस्टडी में भेज दिया. इस मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कोर्ट से तीनों आरोपियों को पुलिस कस्टडी में भेजने की मांग की थी जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया. इस मामले में पुलिस ने दिल्ली के प्राइवेट स्कूल में पढ़ाने वाले दो शिक्षकों ऋषभ और रोहित को गिरफ्तार किया है. इसके अलावा पुलिस ने तौकीर को भी पेपर लीक मामले में गिरफ्तार किया है जो कोचिंग सेंटर में ट्यूटर है. पुलिस के मुताबिक ऋषभ और रोहित ने 12वीं का इकोनॉमिक्स का पेपर तौकीर को दिया था, जिसे तौकीर ने स्टूडेंट्स के बीच लीक कर दिया.