नई दिल्ली: अंग्रेजी भाषा की पाठ्यपुस्तकों में दिवंगत राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम की आत्मकथा से गद्यांशों को शीध्र शामिल किया जा सकता है. केंद्र एवं राज्य सरकारों को शिक्षा के क्षेत्र में परामर्श देने वाली शीर्ष संस्था केंद्रीय शिक्षा सलाहकार बोर्ड (सीएबीई) कल इस संबंध में बैठक करने वाली है.

एजेंडा विषयवस्तु के अनुसार, पिछले साल 19 अगस्त को हुई बैठक में दिये गये सुझावों के अनुसार एसएससी एवं एचएससी बोर्ड द्वारा निर्धारित अंग्रेजी भाषा की पाठ्यपुस्तकों में भारतरत्न डॉ. ए पी जे अब्दुल कलाम की आत्मकथा से गद्यांश शामिल किये जायेंगे. एजेंडा विषयवस्तु का प्रस्ताव सीएबीई सदस्य लतीफ मग्दुम ने दिया है.

उन्होंने प्राथमिक चिकित्सा, अस्पताल प्रबंधल, वार्ड प्रबंधन एवं ऐसे अन्य क्षेत्रों में अल्पकालिक सर्टिफिकेट कोर्स चलाने के लिये एक चिकित्सा विज्ञान संस्थान की स्थापना का भी सुझाव दिया है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अंतर्गत संस्था भारतीय समाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएसएसआर) के अध्यक्ष बी बी कुमार ने शिक्षा के क्षेत्र में नियमित नीति सुधार, मानवशक्ति योजना एवं शैक्षणिक योजना को जोड़ने की सिफारिश की है.