नई दिल्ली: कांग्रेस ने आगामी 12 मई को होने वाले कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए रविवार को 218 उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची जारी की. कांग्रेस ने रविवार देर शाम को जारी उम्मीदवारों की पहली लिस्‍ट के बाद शेष 6 सीटों पर उम्‍मीदवारों के नाम अभी तय होने हैं.पार्टी ने सीएम सिद्धरमैया को चामुंडेश्वरी और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी परमेश्वर को कोराटेगेरे से उम्मीदवार बनाया है. कांग्रेस ने कर्नाटक चुनावों के लिए एक परिवार, एक टिकट का फार्मूला नहीं अपनाया है. उसने मुख्यमंत्री और उनके बेटे को, गृह मंत्री और उनकी बेटी को और कानून मंत्री और उनके पुत्र को भी प्रत्याशी बनाया है. हालांकि, कांग्रेस ने पंजाब में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में यह सूत्रवाक्य अपनाया था. इस सूची में राज्य के कुछ मंत्रियों के नाम भी हैं. विधानसभा चुनाव का रिजल्‍ट 15 मई को आएगा. जल्‍द ही बीजेपी भी अपनी दूसरी लिस्‍ट जारी कर सकती है.

15 मई को आएगा रिजल्‍ट
कर्नाटक में 224 सीटों के लिए विधानसभा चुनाव 12 मई को होना है. 15 मई को वोटों की काउंटिंग होगी. चुनावों को लेकर बीजेपी 72 उम्मीदवारों की एक सूची पहले ही जारी कर चुकी है.

सिद्धारमैया की वरुणा सीट से लड़ेगा बेटा
सीएम सिद्धारमैया को चामुंडेश्वरी विधानसभा से चुनाव लड़ेंगे जबकि, जबकि उनके बेटे यतींद्र अपने पिता की सीट वरुणा से चुनाव लड़ेंगे. शिकारीपुरा से जीबी मल्थेश को बीजेपी के सीएम पद के उम्मीदवार के सामने उतारा है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी. परमेश्वर को कोराटेगेरे से उम्मीदवार बनाया है.

वरुणा से भी दो बार जीते सिद्धारमैया
इसके बाद 2008 के परिसीमन में सिद्धारमैया का गढ़ कहे जाना वाला कुछ इलाका चामुंडेश्वरी से कट कर वरुणा विधानसभा में चला गया था. 2008 और 2013 का चुनाव सिद्धारमैया ने यहां से लड़ा और जीत दर्ज की. वरुणा से इस बार उन्होंने अपने बेटे डॉ. यतींद्र को टिकट दिलवाया है. डॉ. यतींद्र इन चुनावों से राजनीति में कदम रख रहे हैं.

चामुंडेश्वरी से 5 बार एमएलए बने सिद्धारमैया
मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने इस बार चामुंडेश्वरी सीट से चुनाव लड़ने का फैसला किया है. मैसूर जिले की चामुंडेश्वरी विधानसभा क्षेत्र में यहां हिंदुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल चामुंडेश्वरी मंदिर है. यह मंदिर मैसूर से 13 किलोमीटर दूर एक पहाड़ी पर स्थित है. चामुंडेश्वरी एक सामान्य सीट रही है और सिद्धारमैया यहां से 5 बार विधायक चुने जा चुके हैं. उन्होंने यहां सबसे पहले 1983 में चुनाव जीता था. वर्तमान में जेडीएस के जीटी देवगौड़ा यहां से एमएलए हैं. (इनपुट- एजेंसी)