कानपुर: कानपुर में एक दलित दम्पति ने ‘भगवत कथा’ में भाग लेने से रोकने वाले उच्च जाति के लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने पर इस्लाम धर्म अपनाने की चेतावनी दी है. पुलिस उप महानिरीक्षक रतनकांत पाण्डेय ने इस मामले में सूचना दी. उन्होंने बताया कि रसूलाबाद थाना क्षेत्र के नारखुर्द गांव में रहने वाली जया देवी ने आरोप लगाया है कि गत 22 मार्च को वह गांव में भगवत कथा के आयोजन के दौरान आरती करने जा रही थी तभी उसे कुछ लोगों ने उसे कथा में शामिल होने से रोक दिया.

आजम खांं की जांच पर अखिलेश की योगी सरकार को चेतावनी, जो बोओगे, वही काटना भी पड़ेगा

पाण्डेय के मुताबिक जया का आरोप है कि कथा में जाने के दौरान थाली फेंके जाने का विरोध करने पर आरोपियों ने उसके साथ धक्का-मुक्की की और जातिसूचक अपशब्द भी कहे. इस मामले में गत 26 मार्च को मुकदमा दर्ज किया गया था. उन्होंने बताया कि शुक्रवार शाम को जया और उसके पति बबलू ने गांव में घोषणा की कि अगर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो वे इस्लाम कुबूल कर लेंगे.

CBSE पेपर लीक: झारखंड से 3 गिरफ्तार, हिरासत में 9 नाबालिग

इस दलित दम्पति ने बताया कि मुकदमे के आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं. अगर पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी तो वे इस्लाम कुबूल कर लेंगे. जब आरोपी उन्हें हिन्दू समाज का मानते ही नहीं हैं तो इस्लाम को अपना लेना बेहतर है. बहरहाल, पुलिस उप महानिरीक्षक ने कहा कि दलित महिला को आरती में जाने से रोकने के आरोप की जांच की जा रही है. फिलहाल अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है. पुलिस ने बताया कि इस मामले में नरेन्द्र, अजय और रोहित का नाम सामने आ रहा है.