नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी सरकार की कथित नाकामियों, दलितों के मुद्दे और संसद ठप होने के खिलाफ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेसी सोमवार को दो घंटे का उपवास पर बैठे. इस दौरान देश भर के जिला मुख्यालयों पर भी कांग्रेसियों ने प्रदर्शन किया. लेकिन राहुल का राजघाट पर बापू की प्रतिमा के सामने उपवास पर बैठने के दौरान कई विवाद हो गए. पहले वहां सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर के पहुंचने पर विवाद हुआ तो इसके बाद एक फोटो वायरल हो गया जिसमें कांग्रेस के नेता नाश्ता करते दिखे.

बीजेपी नेता हरीश खुराना ने एक फोटो ट्वीट करते हए लिखा, वाह रे कांग्रेस के नेता. लोगों को राजघाट पर अनशन के लिए बुलाया और खुद एक रेस्तरां में छोले भटूरे खा रहे हो.

बता दें कि इस तस्वीर में अजय माकन, अरविंदर सिंह लवली और हारुन यूसुफ दिख रहे हैं. कांग्रेस नेताओं के नाश्ता करते हुए फोटो वायरल होने के बाद कांग्रेस ने प्रतिक्रिया दी है. कांग्रेस नेता लवली ने कहा, हम अनिश्चितकालीन अनशन पर नहीं थे. हमारा अनशन सांकेतिक था. बीजेपी का ध्यान कांग्रेस चलाने पर नहीं है, बल्कि हमारे खाने पर है. फोटोग्राफ सुबह 8 बजे से पहले का है और अनशन 10.30 से 4.30 तक का था. 

संसद सत्र नहीं चलने देने का आरोप लगाते हुए बीजेपी ने 12 अप्रैल को अपने सांसदों द्वारा उपवास की घोषणा की है. उसका आरोप है कि विपक्ष ने संसद की कार्यवाही में व्यवधान डाला और सत्र नहीं चलने नहीं दिया. बीते 5 मार्च से शुरू से शुरू बजट सत्र में लोकसभा और राज्यसभा में किसी तरह की कार्रवाई नहीं हुई. सत्र में दोनों सदनों में एक दिन भी प्रश्नकाल और शून्यकाल नहीं चला. लोकसभा में केवल वित्त विधेयक पारित हो सका है. उसे भी निचले सदन में हंगामे के दौरान ही पारित करना पड़ा. संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने कहा था कि कांग्रेस की राजनीति बंटवारे की है. वह संसद नहीं चलने देना चाहते. पिछले 23 दिन कांग्रेस ने नकारात्मक राजनीति कर संसद ठप किया. बीजेपी इसके खिलाफ धरना देगी.