नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस के हाथ एक ऐसा दयावान चोर लगा है जो चोरी किए हुए पैसों से गांव में गरीब लड़कियों की शादी कराता था.  गांव के गरीब बुजुर्गों के लिए मेडिकल कैम्प लगवाता था. गांव और आसपास के लोग उसे इज्जतभरी निगाहों से देखते और उसे समाजसेवी कहते थे.

पुलिस की गिरफ्त में आए इस शख्स का असली नाम इरफान है लेकिन बिहार के सीतामढ़ी जिले के एक गांव में उसे लोग उजाला बाबू कहकह पुकारते हैं. गांव के लोगों को लगता है कि इरफान एक बहुत बड़ा कारोबारी है.

इरफान पांचवीं फेल है. पुलिस रिकॉर्ड में उसके ऊपर सेंधमारी-चोरी के 12 मामले दर्ज हैं. पुलिस का कहना है कि इरफान बेहद शातिर चोर है लेकिन शहरों में चोरी के पैसों से वो गांव में गरीब लड़कियों की शादी करवाता है और हेल्थ कैम्प भी लगवाता है. गांव में वो कुर्ता पजामा पहनता और शहर आकर वो मॉडर्न लुक में दिखता. गांव में मसीहा की छवि वाले इस इरफान को जब पुलिस पकड़ने गई तो गांव के लोगों को यकीन नहीं हुआ.

इरफान को महंगी कार से चलने और महंगी घड़ियां पहनने का शौक है.  6 जुलाई को जब दिल्ली पुलिस की टीम ने इरफान को उसके गांव से गिरफ्तार किया तब वह रॉलेक्स घड़ी पहने हुए था, जिसे उसने न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी के एक बंगले से चुराया था.

इरफान ने कुछ महीने पहले ही चोरी की महंगी घड़ियां और ज्वैलरी को बेचकर होन्डा सिविक कार खरीदी थी. पुलिस ने धर्मेन्द्र नाम के उस दुकानदार को भी गिरफ्तार कर लिया है, जिसे वह ज्वैलरी बेचता था.