चेन्नई: तमिलनाडु में कावेरी मुद्दे को लेकर राजनीति तेज हो गई है जिसका असर आईपीएल मैचों पर पड़ता दिखाई दे रहा है. राज्य में कावेरी नदी जल विवाद इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) तक जा पहुंचा है और राज्य की राजनीतिक पार्टियों ने इसके मैचों के आयोजन पर सवाल उठाए हैं. राज्य की अम्मा मक्कल मुनेत्र कड़गम (एएमएमके) पार्टी के नेता टीटीवी दिनाकरन ने लोगों से आईपीएल मैचों के बहिष्कार करने की अपील की है.

ये भी पढ़ें: केजरीवाल की राह पर शाजिया इल्मी, कपिल सिब्बल के बेटे अमित सिब्बल से माफी मांगी

द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम (डीएमके) के नेता एम.के. स्टालिन ने कहा है कि वह आईपीएल मैचों के आयोजन के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन आयोजकों को लोगों की समस्याओं को समझना चाहिए और उसके हिसाब से कदम उठाना चाहिए. चेन्नई में 10 अप्रैल को चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइटराइडर्स के बीच मैच खेला जाना है. विदुतलाई चिरुथइगल काची (वीसीके) प्रमुख थोल थिरुमावासन ने तमिलनाडु में आईपीएल मैच पर पाबंदी लगाने की मांगी की है.

गौरतलब है कि 16 फरवरी को उच्चतम न्यायालय ने कावेरी नदी के जल के बंटवारे में तमिलनाडु के हिस्से का पानी घटा दिया और कर्नाटक का हिस्सा बढ़ाने के बाद से ही तभी से इसे लेकर तमिलनाडु में विरोध जारी है.

इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने 16 फरवरी के आदेश के छह हफ्ते के अंदर कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड के गठन के लिए कहा था. इसका गठन नहीं हुआ और केंद्र ने सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर कर इस बोर्ड को लेकर कुछ स्पष्टीकरण मांगा है. तमिलनाडु के राजनीतिक दल और सामाजिक संगठन केंद्र पर कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड बनाने का दबाव डाल रहे हैं.

इनपुट आईएएनएस