मुजफ्फरनगर: स्वंयभू धर्मगुरू आसाराम पर लगे बलात्कार के मामले के मुख्य गवाह की हत्या के चश्मदीद ने इस हत्या के मुख्य आरोपी की पहचान मंगलवार को कर ली. उपखंडीय मजिस्ट्रेट कन्हाई सिंह यादव की मौजूदगी में मंगलवार शाम चश्मीद ने जिला जेल में शिनाख्त पैरेड के दौरान कार्तिक हल्दर की पहचान की. इसी बीच कार्यकारी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जितेंद्र सिंह ने हल्दर की न्यायिक हिरासत बढ़ाकर 27 नवंबर कर दी.

कार्तिक हल्दर 15 जनवरी 2015 को अखिल गुप्ता (35) की हत्या के मामले का आरोपी है. हल्दर को गुजरात के आतंकविरोधी स्कवाड ने पिछले साल गिरफ्तार किया था. हरियाणा के करनाल जेल में बंद हल्दर को एक स्थानीय अदालत के निर्देश पर यहां लाया गया था.

बता दें 80 साल के हो चुके आसाराम काफी समय से तिहाड़ जेल में बंद हैं. आसाराम और उनके पुत्र नारायण साई के खिलाफ सूरत की दो बहनों ने अलग अलग शिकायतों में बलात्कार और गैर कानूनी तरीके से बंधक बनाने सहित कई आरोप लगाये थे. बड़ी बहन ने आरोप लगाया था कि अहमदाबाद के निकट स्थित आश्रम में वर्ष 2001 से 2006 में प्रवास के दौरान आसाराम ने उसका यौन शोषण किया था.

इसके आलावा राजस्थान के मामले में एक किशोरी ने आसाराम पर आरोप लगाया था कि उन्होंने जोधपुर के निकट मनाई गांव में स्थित अपने आश्रम में उसका यौन शोषण किया था. उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की रहने वाली यह किशोरी छात्रा थी और आश्रम में ही रह रही थी.